धनवंतरी जयंति पर चिकित्सा जगत की आठ विभूतियों का सम्मान किया गया*




*नगर निगम द्वारा शहर के 85 वार्डों में योग केन्द्र एवं स्वास्थ केन्द्र स्थापना की जावेगी।-महापौर पुष्यमित्र भार्गव*

इन्दौर शहर में आयुर्वेद को समर्पित संस्थाओं के द्वारा धनवन्तरी जयंति के अवसर पर दिनांक 22 अक्टूबर 2022 को राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि इन्दौर शहर के महापौर श्री पुष्यमित्रजी भार्गव थे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ प्लास्टिक सर्जन डॉ. अश्विनीजी डेश द्वारा की गई।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए महापौर श्री पुष्यमित्रजी भार्गव ने कहा कि, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदीजी के नेतृत्व में भारत विश्वगुरू बनने की ओर अग्रसर है। आज पूरे विश्व में भारतीय चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद का डंका बज रहा है। विदेशों में आयुर्वेद के पाठ्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं और पूरी दुनिया आयुर्वेद की तरफ आशा भरी नजरो से देख रही है। यह हमारे लिये गर्व का विषय है। आपने यह भी कहा कि, मुझे इस बात का गर्व है कि, मेरा परिवार आयुर्वेद से जुड़ा रहा हैं, मेरे दादाजी एवं मेरे पिता भी आयुर्वेद के चिकित्सक रहे है। इस अवसर पर आपने घोषणा की कि, आयुर्वेद औषधियों के निर्माण में इन्दौर शहर पूरे देश में नम्बर एक पर है। अतः आयुर्वेद औषधी निर्माताओं की समस्याओं के निराकरण में नगर निगम हमेशा सकारात्मक सहयोग करेगा। चिकित्सको को नगर निगम द्वारा दी जा रही छूट निरन्तर रखी जाऐगी। जबलपुर और उज्जैन की तरह इन्दौर नगर निगम के द्वारा भी आयुर्वेदिक चिकित्सालय प्रारंभ किया जाऐगा व औषधी एवंम् नक्षत्र वाटिकाओं का शहर के अनेक बगीचों का निर्माण किया जाऐगा। शहर के सभी 85 वार्डो में योग केन्द्र एवं चिकित्सा केन्द्र स्थापित किये जाऐगे ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए शहर के वरिष्ठ प्लास्टिक सर्जन श्री डॉ. अश्विनी जी डेश ने कहा कि, प्लास्टिक सर्जरी का जन्म भारत में हुआ और महर्षि सुश्रुत के बारे में जानकारी हमको विदेशों से प्राप्त हुई। हमें यह जानकर आश्चर्य हुआ कि भारत के महर्षि सुश्रुत दुनिया में प्लास्टिक सर्जरी के पितामह के रूप में जाने जाते है। कोविड के बाद वर्तमान में सभी चिकित्सा पद्धतियों की आवश्यकता महसूस की जा रही है और इंट्रीग्रेटेड व्यवस्था ही देश के स्वास्थ्य के लिये आवश्यक है। केन्द्र सरकार की एक राष्ट्र- एक स्वास्थ्य योजना साकार हो और सभी चिकित्सा पद्धतियों को सम्मान मिले। मध्यप्रदेश में मेडीकल कॉलेज में हिन्दी में पाठ्यक्रम शुरू करने से क्षेत्रिय भाषा के छात्र इस विद्या को अच्छे से समझ सकेंगे। यह एक अच्छा कार्य है। मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉक्टर अशोक खंडेलवाल भी विशिष्ट अतिथि के रूप में मंच पर उपस्थित थे और उन्होंने भी सभा को संबोधित किया आरोग्य भारती मालवा प्रांत के कार्याध्यक्ष वैद्य लोकेश जोशी ने राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर शासन की हर दिन - हर घर आयुर्वेद की योजना की जानकारी भी प्रदान की।

इस अवसर पर इन्दौर शहर की स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े सभी पैथियों के आठ वरिष्ठजनो का सम्मान किया गया, इसमें एम.जी.एम. मेडीकल कॉलेज के सेवानिवृत्त प्राध्यापक डॉ. मनोहर भण्डारी, शुभदीप आयुर्वेदिक कॉलेज एवं वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. जयशंकरजी मुण्ड, वरिष्ठ आयुर्वेद चिकित्सक डॉ. आर. एस. चौहान एवं डॉ. अशोक उपाध्याय, वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ. रमेश अटोलिया, वरिष्ठ योग प्रशिक्षक श्री बी. देवदासन जी, वरिष्ठ औषधी निर्माता श्री शरद कोठारी (केन लाईफ केयर) एवं वरिष्ठ औषधी विक्रेता श्री पं. आशीष जी दुबे (भाग्य श्री मेडीकोज) का शाल, श्रीफल व सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम का आयोजन आरोग्य भारती, आयुर्वेद सम्मेलन जिला इन्दौर, नेशनल इंटीग्रेटेड मेडीकल एसोसिएशन इन्दौर, विश्व आयुर्वेद परिषद, शासकीय अष्टांग आयुर्वेद महाविद्यालय एवं शुभदीप आयुर्वेद मेडीकल कॉलेज संभागीय एवं जिला आयुष विभाग मध्यप्रदेश शासन, इन्दौर आदि संस्थाओं के द्वारा किया गया। स्वागत भाषण कार्यक्रम के संयोजक डॉ. आर.के. बाजपेई व डॉ. महेश गुप्ता ने दिया । कार्यक्रम का संचालन आरोग्य भारती के श्री डॉ. आकांक्षा भिलवारे ने किया एवं अन्त में आभार प्रदर्शन कार्यक्रम के प्रयोजक व्यास फार्मास्युटिकल्स के श्री विष्णुप्रकाश व्यास ने किया। कार्यक्रम में स्वच्छ इन्दौर के साथ ही स्वस्थ इन्दौर के संकल्प का शंखनाथ किया गया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र