नवीन अस्थाई आतिशबाजी (पटाखे) अनुज्ञप्ति हेतु संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी अधिकृत

 आशीष यादव, धार 

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉं. पंकज जैन ने दीपावली त्यौहार के अवसर पर आतिशवाजी (फटाखे, फुलझडी) संग्रह एवं विक्रय हेतु विस्फोटक नियम-2008 के अन्तर्गत नवीन अस्थाई आतिशबाजी (पटाखे) अनुज्ञप्ति हेतु संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी को उनके क्षेत्र के लिये एवं धार नगर के लिये अनुविभागीय दण्डाधिकारी नगर धार को अधिकृत किए जाने का आदेश जारी किया है। आदेश के तहत नवीन अस्थाई आतिशबाजी (पटाखे) अनुज्ञप्ति के आवेदन पत्र एम.पी. ई-सर्विस पोर्टल (ीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीजीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीीजज के माध्यम से संविभागीय दण्डाधिकारी को अपनी उपयोगकर्ता आयटी पर ऑनलाईन प्राप्त होने पर आवेदन पत्रो के सम्बन्ध में पुलिस से आवश्यक जाँच करवाई जायेगी। पुलिस प्रतिवेदन एवं आवश्यक जाँच के पश्चात ही अनुज्ञप्ति जारी की जायेगी। अनुज्ञप्ति जारी करने से पूर्व जिला दण्डाधिकारी का अनुमोदन प्राप्त करना आवश्यक होगा। ऑनलाईन आवेदन-पत्र करने की अंतिम 13 अक्टूबर रहेगी। आवेदन पत्र के साथ पुलिस सत्यापन/प्रतिवेदन आवश्यक होगा। प्रत्येक नवीन/नवीनीकृत अनुज्ञप्ति में आतिशबाजी संग्रह एवं विक्रय हेतु आवश्यक जनसुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए स्थान एवं मात्रा आवश्यक रूप से प्रदर्शित की जायेगी। अनुज्ञप्ति स्थल पर आवश्यक अग्नि सुरक्षा व्यावस्थ सुनिश्चित की जायेंगी तथा रहवासी बस्ती में अनुज्ञप्ति जारी न की जाने की पाबंदी सुनिश्चित की जाये। अनुज्ञप्ति स्थल पर किसी आशंकित दुर्घटना के निदान हेतु प्रत्येक अनुज्ञशिधारी द्वारा पुलिस प्रशासन को पर्याप्त सहयोग उपलब्ध कराया जायेगा। अनुज्ञप्ति स्थल जिस स्थान पर आतिशबाजी की दुकाने लगेगी उस स्थान पर पर्याप्त पानी एवं बालू रेती की बोरी की व्यवस्था की जायें एवं विस्फोटक नियमों का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित करें।18 वर्ष से कम आयु के बच्चों को तब तक आतिशबाजी न बेची जाये तब तक उनके साथ कोई वयस्क व्यक्ति न हो। अनुज्ञप्ति स्थल पर किसी भी तरह के जलित दिये, लालटेन, मोमबत्ती का प्रयोग नही किया जायेगा तथा अनुज्ञप्ति स्थल पर धूम्रपान पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। आतिशवाजी विक्री हेतु संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी द्वारा दुकानदारों को अस्थाई दुकान के लिये अनुज्ञति नवीन/नवीनीकरण करते समय केन्द्रीय सरकार की अधिसूचना अंतर्गत शर्तों का पालन अनिवार्य रूप से करवाया जाए। जिसमें रहवासी आबादी क्षेत्र में बिक्री होने पर संबंधित का लायसेंस निरस्त कर दिया जायेगा। आतिशबाजी को सुरक्षित एवं बंद ज्वलनशील सामग्री से बने शेड में रखना होगा। आतिशबाजी की अस्थाई दुकाने एक-दूसरे से 5 मीटर की दूरी पर एवं किसी भी संरक्षित कार्यशाला से 100 मीटर की दूरी पर होगा। यह अस्थाई दुकाने एक-दूसरे के आमने-सामने नहीं होगी। दुकानों के बीच विभाजन में टीन की चादर का ही प्रयोग करेंगे। सुरक्षा दूरी के अंदर एवं इन दुकानों में प्रकाश हेतु किसी प्रकार का तेल, लैम्प, गैस लैम्प एवं खुली बिजली बत्तियों का प्रयोग नहीं होगा। यदि यदि किसी बिजली की लाईन का प्रयोग किया जाता है तो उसे या तो दिवार पर या छत पर दृढ़ता से लगाना होगा। किसी प्रकार के तार लटक नहीं होगे। इन बस्तियों के लिये बटन छत के पास लगाने होंगे एवं एक पंक्ति की सभी दुकानों के लिये मास्टर स्विच लगाना होगा। किसी दुकान के 100 मीटर के अंदर आतिशबाजी का प्रदर्शन प्रतिबंधित होगा। प्रत्येक मास्टर स्विच के फ्यूज या सर्किट ब्रेकर लगा होना चाहिए, ताकि शार्ट सर्किट होने पर विद्युत प्रवाह स्वतः बंद हो जाये। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र