आधी रात को पेड़ गिरने से ढह गई मकानों की छत-दिवार, बाल-बाल बचे मकानों में सो रहे परिवारजन

लगातार हो रही बारिश से घर पर गिरा पेड़,बाल-बाल बचे परिजन

ओंकारेश्वर ( ललित दुबे )बारिश से शनिवार तड़के वार्ड क्रमांक 4 सीआईएसएफ कालोनी के पास एक घर में पेड़ गिरने से वहां रह रहे लोग बाल-बाल बच गए। जानकारी अनुसार वार्ड 4 के निवासी सेवंती बाई,गणेश वर्मा सहित एकृ अन्य के घर में शनिवार सुबह एक विशाल निम का पेड़ गिर गया। जिस समय पेड़ गिरा उस समय घर के अंदर 4 बच्चे सहित सेवंति बाई व उसका परिवार सोया हुआ था, लेकिन संयोगवश किसी को कुछ नहीं हुआ। 

 ओंकारेश्वर के वार्ड 4 सेवंती बाई के कच्चे मकान के पास नीम का पुराना पेड़ था। शनिवार तड़के बारिश के दौरान पेड़ मकान पर गिर पड़ा। इससे तेज आवाज के साथ कच्चे मकान की दीवार भी भरभराकर गिर गई। मलबे में दबकर गृहस्थी का सामान भी खराब हो गया।।           

इधर, सूचना पाकर नायाब तहसीलदार उदय मण्डलोई शनिवार की सुबह पिडित परिवारजनों के घर पहुंचकर घर वालों से जानकारी ली। साथ ही उन्होंने प्रशासन से पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा राशी देने की मांग की हैं। उल्लेखनीय है कि नगर परिषद ओमकारेश्वर द्वारा वन विभाग के सहयोग से पूर्व में खतरनाक जर्जर वृक्षों को कटवाया गया था किंतु अभी तक नगर परिषद द्वारा बिलों का भुगतान मजदूरों को नहीं किए जाने से मजदूर कार्यालय के चक्कर लगा लगा कर परेशान हो गए हैं अब स्थिति इतनी भयंकर हो गई है कि नागरिकों द्वारा खतरनाक वृक्षों को काटने की मांग की जा रही है किंतु नगर परिषद द्वारा भुगतान नहीं करने के कारण कोई वृक्ष काटने को तैयार नहीं इसी के चलते पीड़ित परिवार के लगभग 4 सदस्य मौत के मुंह में जाते-जाते ईश्वर कृपा से बचे नगर परिषद की लापरवाही से नागरिकों में आक्रोश



समाचार लिखे जाने तक मकानों पर गिरे विशालकाय वृक्ष को जिम्मेदारों द्वारा नही हटाया गया।पिडित परिवारजन पार्षद जनप्रतिनिधियों को गुहार लगाते दिखाई दिये।

क्या कहते है जिम्मेदार -

मैरे द्वारा ने पेड़ को हटाने के निर्देश दे दिए हैं और पीड़ित परिवार की भी हर संभव सहायता की जाएगी।इसी के सांथ नगर पंचायत ओकारेश्वर को भी निर्देश दिए हैं कि जहां कहीं भी ओम्कारेश्वर नगर में इस तरह के जर्जर पेड़ हैं उनका सर्वे कराया जाए।     

-उदय मण्डलोई, नायब तहसीलदार, टप्पा कार्यालय मांधाता