विश्व गौरैया दिवस पर विशेष, रूठी नन्ही गौरैया तो सूना हुआ घर का आंगन

आशीष यादव, धार/बदनावर

कभी घर के आंगन में नन्ही परी की तरह फुदकने वाली गौरैया अब मुश्किल से ही दिखती है। जैसे वह रूठ कर कहीं चली गई हो। रूठे भी क्यों न हमने उनके घर ही नहीं छीने, बल्कि उन्हें दाना पानी देना भी भूल गए। और तो और उनके कुदरती भोजन को बर्बाद करने में भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। 

आज से 25-30 साल पहले तक गौरैया घर-परिवार का एक हिस्सा हुआ करती थी। घर के आंगन में फुदकती गौरैया, उनके पीछे नन्हे-नन्हे कदमों से भागते बच्चे। अनाज साफ करती मां के पहलू में दुबक कर नन्ही गौरैयों का दाना चुगना और और फिर फुर्र से उड़कर झरोखों में बैठ जाना। ये नजारे अब शहरों में ही नहीं गांवों में भी ज्यादा नहीं दिखाई देते।

खेतो में कीटनाशक दवाइयों के उपयोग व कटती हरियाली व मोबाइल टावरों के रेडिएशन के कारण गोरैया का जीवन संकट में पड़ गया है। पहले गांवो में बड़ी संख्या में आसमान में उड़ती हुई दिखाई देती थी। किंतु अब यह नगण्य ह्यो गई है। बदलते वातावरण ने इन्हें हमसे दूर कर दिया है। हालांकि अभी भी पक्षी प्रेमी गौरेया को बचाने के लिए पहल करते रहते है।

परिंदों के लिए बना रखा है 7 मंजिला आशियाना

स्थानीय गौसेवा संस्थान के सदस्य गौरेया समेत अन्य परिंदों को बचाने के लिए समय समय पर पहल करते रहते है। इसी कड़ी में संस्था द्वारा यहां श्री लक्ष्मी गौशाला परिसर में 7 मंजिला पक्षीघर बना रखा है। जिंसमे परिंदों की चह चाहट कानो में मधुर संगीत घोल देती है। 

संस्थाध्यक्ष यशपालसिंह सिसोदिया ने बताया कि बदलते वातावरण व पर्यावरण के कारण खत्म हो रहे है। इसको लेकर संस्था ने पक्षीघर बनाया है। 60 फीट ऊंचाई के इस पक्षीघर मे 650 घोसले बना रखे है। जिंसमे करीब 2 हजार परिंदों एक साथ रह सकते है। पक्षीघर में परिंदों के लिए दाना पानी की व्यवस्था भी की जाती है।



टिप्पणियाँ
Popular posts
*धरती माँ की प्यास बुझाने के लिए महु में होंगा हलमा*
चित्र
म.प्र. के गुना में हुए शिकार, शिकारियों द्वारा तीन पुलिसकर्मियों की हत्या & शिकारियों की पृष्ठभूमि का वरिष्ट पत्रकार अतुल गुप्ता द्वारा बहुत ही सटीक विश्लेषण
चित्र
तिरला पुलिस के 3 दिन के रिमांड पर भू कारोबारी भोला तिवारी, जमीन खरीदी में धोखाधड़ी के मामले में महिला की शिकायत पर दर्ज हुआ था प्रकरण
चित्र
प्रेशर से फीस मांग नहीं सकते,छात्रवृत्ति मिली आधी रोकस ने थमा दिए 1 करोड़ चुकाने के नोटिस, मुश्किल में 12 नर्सिंग कॉलेज के संचालक, कोविड काल में ट्रेनिग की राशि मांग
चित्र
अलीराजपुर जिले की स्थापना दिवस पर चंद्रशेखर आजाद नगर में गौरव रैली का आयोजन
चित्र