मास्क सर्वे - कोरोना की हकीकत जानते है पर क्यों नहीं लगाते लोग मास्क ?


धार /- कोरोना वायरस से बचाव के लिए भारत सरकार ने कई नियम बनाए है, जैसे 2 ग़ज की दुरी, अपने हाथो को सदा साफ़ रखे, मास्क पहन कर ही बाहर जाए आदि . तमाम चेतावनी व प्रयास के बाद भी मास्क लगाने में बड़ी लापरवाही सामने आ रही है। आखिर क्यों मास्क नहीं लगाते है लोग ? 

भोज शोध संस्थान धार म प्र की प्रशिक्षु अमेया मुंडले ने मास्क को लेकर एक सर्वे किया गया, जिसमे यह पता चला है कि मास्क लगाना सबकी मज़बूरी बन गया हैं। सर्वे के दौरान जिससे भी पुछा गया कि मास्क लगाना कैसा लगता है। क्या आप मास्क स्वेच्छा से लगाते हैं? या मास्क लगाना पसंद नहीं है तो क्यों ? 

लगभग सभी का उत्तर सामान ही था, पसंद तो नहीं है पर मज़बूरी के कारण लगाना पड़ रहा हैं, वही कई लोगो ने कहा कि उन्हें मास्क पहनना पसंद है। बच्चो ने भी अपने अंदाज़ में रोचक उत्तर दिए। यह सर्वे धार जिला केंद्र पर शताधिक लोगो पर किया गया। 


जनता के द्वारा दिए गए कुछ जवाब 


सौम्य मुंडले(१७) : मास्क लगा कर घुटन सी होती हें, मास्क के इलास्टिक से कान भी दर्द करने लग जाते हें। 

श्रीमती कालिंदी जी(७४) : मुझे तो बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता ये मास्क पहनना पर मेरी उम्र की वजह ज़रूरी है। मुझे ज्यादा सुरक्षा रखनी होती है, इसलिए पहनना पड़ता हें.

श्रद्धा चौधरी(२०) : चश्मा और मास्क का कॉम्बिनेशन बेहद बुरा है, मास्क लगा हो तो चश्मे पर बार- बार भाप जम जाती है इसलिए मुझे मास्क लगाना अच्छा नहीं लगता। 

श्रीमती सीमा जी(४०) : मुझे मास्क लगाना अच्छा नही लगता क्योंकि मैं जब भी सब्जी बेचने के लिए आवाज़ देती हु तो सामने वाले समझ नहीं पाते कि में बोल क्या रही हु ? 

श्रीमती कविता खाडिलकर (५०) : मास्क लगाना पसंद तो नहीं है मुझे, लेकिन मैं हमेशा लगा कर रखती हूं ताकि सुरक्षा बनी रहे। 

श्रीमती मंजूषा जी(५६) : मास्क लगाना मुझे पसंद नहीं है क्योंकि शुद्ध हवा नहीं आती जिस वजह से सांस लेने में दिक्कत होती है और घुटन भी। 

श्रीमती रजनी चौहान (३०) : मास्क लगाना तो अच्छा लगता है लेकिन इससे दिक्कत भी है क्योंकि जब मास्क लगा हो तो बोलते नहीं आता और सामने वाले का चेहरा भी समझ में नहीं आता। 

महिमा चौहान (१६) : मुझे तो मास्क लगाना बहुत अच्छा लगता है क्योंकि इससे अपनी पूरी सेफ्टी बनी रहती है और कोरोना का डर भी नहीं लगता। 

श्री श्याम चौहान (५०) : मुझे मास्क पहनना अच्छा लगता है क्योंकि यह अपनी सुरक्षा है, इसके कई फायदे हैं धूल से बचाता है, धूप से बचाता है, और सर्दी वगैरा होने से भी बचाता है। 

श्री विजय कानूनगो (५५) : अभी जो इतना कोरोना वायरस चल रहा है उससे मास्क बचाव करता है। इसलिए मास्क लगाना अच्छा लगता है.

बच्चों ने दिए रोचक जवाब –

भव्य(८) : मास्क लगाकर घुमने से पुलिस नहीं पकड़ती नहीं है इसलिए मुझे मास्क लगा कर घुमता हूं। पर ज्यादा देर लगा लो तो गर्मी भी होने लग जाती है। 

दक्ष(१२) : फैशन के लिए मास्क लगाना पसंद है। 

कृष्णा(१५) : मुझे मास्क लगाना अच्छा लगता है क्योंकि १० रु का मास्क लगा कर ५०० रु के चालान से बच सकता हूँ। 

निशित बिरथरे (१०) : मास्क लगाने से कोरोना वायरस से बचाव है, इसलिए मास्क लगाना बहुत अच्छा लगता है और सब ने लगाना चाहिए। 


इस सर्वे के दौरान ड्यूटी देते कुछ पुलिस कर्मियों से भी बात की तो उनका कहना है कि अगर वे खुद मास्क लगाकर नियमों का पालन नहीं करेंगे तो आम जनता को किस प्रकार से जागरूक करेंगे। 

जनता की जागरूकता के लिए हमें भी सारे नियमों का पालन करना ही पड़ता है और यही हमारी ड्यूटी भी है। 




*मास्क लगाने के कारण*

- धूल मिट्टी से बचाव होता है। 

- इन्फेक्शन का खतरा कम होता है। 

- पुलिस के चालान से भी बचाव होता है। 

- मास्क लगा होने से त्वचा से जुडी समस्या कम हो जाती है। 

-मास्क लगा होने से दुर्गन्ध से बचाव होता है। 

-मास्क लगा होने से सर्दी होने की सम्भावना कम हो जाती हे.

-कोरोना वायरस जैसे कीटाणुओं से बचाव होता है.


*मास्क न लगाने के कारण* 

- घुटन व घबराहट होती है।

- सामने वाले का चेहरा पहचानने में दिक्कत होती है।

- मास्क और चश्मा साथ में लगाया हो तो चश्मे पर भाप जम जाती है। 

- बात ठीक से नहीं होती है, ना सामने वाले के शब्द समझ में आते हैं।

- मास्क लगा हो तो शुद्ध ऑक्सीजन नही आ पाती।

- ज्यादा देर मास्क लगाने से गर्मी होने लगती है पसीना खूब आता है। 

-अधिक समय तक मास्क पहना हुआ हो तो कान दर्द करने लग जाते है। 



ये निष्कर्ष लघु सर्वे के बाद अमेया मुंडले

श्री वैष्णव इंस्टीट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड मैस कम्युनिकेशन की छात्रा ने जनहित में भोज शोध संस्थान के निर्देशक डॉ दीपेंद्र शर्मा के मार्गदर्शन में प्राप्त किए है। यह जानकारी मीडिया प्रभारी राकी मक्कड़ ने दी है।



Popular posts
अम्बेडकर विश्वविद्यालय, महू में भक्तिमयी शबरी पर कार्यक्रम का मंचन
चित्र
रामचरित्र मानस पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का हुआ आंबेडकर विश्वविद्यालय में आयोजन, कई महान विभूतियों ने लिया भाग
चित्र
आंबेडकर विश्वविद्यालय, महू की "बाबू जगजीवन राम पीठ" के प्रोफेसर के रूप में डॉ शैलेंद्र मणि त्रिपाठी ने किया अपना कार्यभार ग्रहण
चित्र
औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर के युवा तरुणाई शुभम पाराशर का जन्म दिवस मनाया गया धूमधाम से
चित्र
अम्बेडकर विश्वविद्यालय का ‘नक्सल ऑपरेशन एंड लेसन्स’ विषय पर राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन
चित्र