लॉकडाउन में मध्यमवर्गीय परिवारों का भी ख्याल रखा जाए क्योंकि ऐसे परिवार अपने आर्थिक परेशानी को उजागर भी नहीं कर पा रहे हैं

*बिना खाद्य पात्रता पर्ची नहीं मिल रहा लोगों को राशन*


ओंकारेश्वर: नगर पंचायत के अध्यक्ष अंतर सिंह बारे . सर्व ब्राह्मण समाज के अध्यक्ष रमेश चंद्र व्यास .ओकारेश्वर बाविसा  ब्राह्मण संमाज अध्यक्ष ललित दुबे .पंडा संघ ज्योतिर्लिंग अध्यक्ष निलेश पुरोहित व अन्य सामाजिक संगठनों  ने नगर पंचायत क्षेत्र के 15 वार्डों में  निवासरत गरीब परिवार जो ज्योतिर्लिंग भगवान मंदिर पर ही आश्रित हैं राशन से वंचित गरीबों की स्थिति से प्रमुख सचिव को अवगत कराते हुए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने की मांग की है.. सभी संगठनों पदाधिकारियों ने आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार भले ही दावे पर दावा कर रहे हैं कि लोगों को बिना राशन कार्ड के भी चावल और दाल का वितरण किया जा रहा है। जमीनी हकीकत इससे अलग है। ओंकारेश्वर के अनेक परिवारों के एपीएल राशन कार्ड का सर्वे  कर पात्रता पर्ची बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई ही थी की इसी बीच संपूर्ण देश लागडाउन हो गया।जिससे सर्वे अधुरा रहकर खाद्यान्न पात्रता पर्ची नही बन पायी।
कोरोना वायरस संक्रमण के बीच राष्ट्र स्तर लॉक डाउन किए जाने से इन जरूरतमंदों को राशन नहीं मिल पाने की समस्या उत्पन्न हो गई है। राशन वितरण प्रणाली को पुख्ता और हर व्यक्ति तक राशन उपलब्ध कराने के लिए मांग उठ रही है।
सामान्य वर्ग के सभी ब्राह्मण परिवार के संगठनों एवं गांव के प्रथम नागरिक नगर परिषद अध्यक्ष अन्तर के बारे ने खण्डवा कलेक्टर,ओंकारेश्वर बांध परियोजना प्रमुख सहित नगरिय प्रसाशन एवं विकास मंत्रालय प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर ध्यानाकर्षण कराया है कि ओंकारेश्वर नगर एक ज्योतिर्लिंग तिर्थनगरी है यहां कोई उद्योग या कृषि धंधा नही हैं एक मात्र यहां आनेवाले दर्शनार्थ तिर्थयात्रियों से होने वाली आय ही यहां निवारत लोगों का आय का मुख्य श्रोत हैं वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की रोकथाम को दृष्टि गत रखते हुए ओंकारेश्वर-ममलेश्वर मुख्य मंदिर बंद किये हुए हैं जिससे ओंकारेश्वर में तिर्थयात्रियों का आवागमन पर पूर्ण रुप से प्रतिबंध लगाया हुआ हैं।इसी के चलते इस लंबे लाकडाऊन के कारण ओंकारेश्वर के 15 ही वार्डों में निवासरत बिना पात्रता पर्ची वाले अनेक परिवारों पर संकट गहराया है।


*""दानदाताओं के पहुंच से दूर हैं गरीब""*


कोरोना वायरस संक्रमण से उत्पन्न लॉकडाउन के कारण जिला और नगरीय प्रशासन द्वारा जरूरतमंद हर व्यक्ति को राशन दिया जाना है। प्रदेश में बीपीएल राशन कार्डधारी परिवारों को दो महीने का राशन एक साथ दिया भी जा रहा है। लेकिन, अभी भी अनेक परिवार ऐसे हैं जिन्हें न तो सार्वजनिक वितरण प्रणाली से राशन मिल पा रहा है और न ही दानदाताओं से वितरण किया जा रहा राशन। ऐसे में इनकी स्थिति दयनीय है। पुलिस की सख्ती और लॉकडाउन की कड़ाई से अनेक जरूरतमंद परिवारों को राशन नहीं मिल पा रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह सभी ने निवेदन किया है कि ज्योतिर्लिंग ओमकारेश्वर को विशेष ध्यान में रखते हुए विशेष पैकेज सुविधा उपलब्ध कराएं।



Popular posts
आंबेडकर विश्वविद्यालय, महू की "बाबू जगजीवन राम पीठ" के प्रोफेसर के रूप में डॉ शैलेंद्र मणि त्रिपाठी ने किया अपना कार्यभार ग्रहण
चित्र
अम्बेडकर विश्वविद्यालय, महू में भक्तिमयी शबरी पर कार्यक्रम का मंचन
चित्र
रामचरित्र मानस पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का हुआ आंबेडकर विश्वविद्यालय में आयोजन, कई महान विभूतियों ने लिया भाग
चित्र
शक्ति उपासना राष्ट्रीय कवि सम्मेलन के आयोजन को लेकर डा. दवे के नेतृत्व वाले दल ने लिया जायजा
चित्र
विश्व हिंदू परिषद जिला महू की मातृशक्ति-दुर्गा वाहिनी द्वारा शस्त्र पूजन, महाआरती का किया गया आयोजन
चित्र