सागर मेंं छत पर इकट्ठे पढ़ रहे थे नमाज, पुलिस पहुंची फिर जानिए क्या हुआ

मौके पर पुलिस भेजी नमाज पढ़ रहे लोगों को पुलिस ने समझाइश दी।


सागर। कोरोना महामारी को देशभर में फैलने से रोकने के लिए सरकार ने 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया है क्योंकि कोरोना संक्रमण का फिलहाल कोई इलाज नहीं है। ऐसे में इससे केवल सोशल डिस्टेंस के माध्यम से ही बचा जा सकता है। यही वजह है कि सरकार जनता से सोशल डिस्टेंस बनाने की लगातार अपील कर रही है। वहीं लोग लगातार लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते नजर आ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला सागर से सामने आया है, जहां लोग एक जगह इकट्ठे होकर नमाज पढ़ रहे हैं।


यह मामला सागर शहर के मोतीनगर थाना अंतर्गत अंबेडकर वार्ड का है, जहां गरीब और असहाय लोगों के लिए नगर निगम द्वारा आवासीय कॉलोनी बनवाई गई है। इस कॉलोनी के कुछ आवासों के लोग इकट्ठे होकर छत के ऊपर लॉकडाउन के दौरान भी टीनसेट लगाकर नमाज पढ़ते नजर आये।


इसकी जानकारी पुलिस के अधिकारियों को दी गई तो उन्होंने मौके पर पुलिस टीम भेजी गई उन्होंने नमाज पढ़ रहे लोगों को समझाइश दी।


इस मामले में सागर विधायक शैलेंद्र जैन का कहना है कि- 'कुछ समय पहले अनुसूचित जाति के व्यक्ति के जिंदा जलाने का मामला आया था। अल्पसंख्यक लोगो ने वहां पर एक साथ नमाज पढ़ने की व्यवस्था बनाई है। अगर एक साथ नमाज पढ़ी जा रही है, तो ना उनके लिए उचित है और ना ही शहर के लिए मैं आज ही इसकी व्यवस्था करूंगा कि सामूहिक रूप से नमाज पढ़ने की व्यवस्था ना हो। जब तक हालात काबू में नहीं आते अपने घरों में नमाज़ पढ़ना चाहिए'


इस मामले में सागर पुलिस अधीक्षक अमित सांगी का कहना है कि- 'सूचना प्राप्त होने पर मौके पर पुलिस बल भेजा गया, जहां दो-तीन लोग नमाज पढ़ते हुए मिले आगे भी यदि कोई शिकायत आएगी और लोग मौके पर इकट्ठे मिलेंगे तो उन पर कार्रवाई की जाएगी