महू में 4 साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने वाले आरोपी को फाँसी की सजा।

महू में 4 साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने वाले आरोपी को फाँसी की सजा।
आज दिनांक 24 फरवरी 2020 को माननीय पंचम अपर सत्र न्यायाधीश वर्षा शर्मा द्वारा थाना महू के अपराध क्रमांक 485 वर्ष 2019 में आरोपी अंकित पिता कमल सिंह विजयवर्गीय को धारा 302 धारा 376 एबी धारा 363 धारा 366 आईपीसी 5 एवं 6 पॉक्सो एक्ट में मृत्युदंड से दंडित किया है


पुलिस ने आरोपी को दोपहर में कोर्ट में पेश किया, जहां उसे 302 और 376 ए की धाराओं में फांसी की सजा सुनाई गई। 1 दिसंबर 2019 को महू में चक्कीवाले महादेव मंदिर के बाहर सड़क किनारे माता-पिता के साथ सो रही बच्ची को आरोपी उठाकर ले गया था। दूसरे दिन उसका शव 200 मीटर दूर शराब गोदाम के पास बंगला नंबर-122 के खंडरनुमा कमरे में मिला था। आरोपी ने रेप के बाद बच्ची की हत्या कर दी थी। मौत के बाद वह शव को वहीं छोड़कर घर भाग गया था।


आरोपी की जुबानी उस रात की कहानी...
मैं घर से निकला व सिमरोल आरओबी के नीचे गुमटी पर सिगरेट लेने पहुंचा। गुमटी बंद थी तो मैं फिर रेलवे स्टेशन मार्ग पर पहुंचा। यहां पर भी दुकान बंद थी। इसके बाद मैं थाना के सामने से होता हुआ चक्कीवाले महादेव मंदिर मार्ग पहुंचा। यहां रास्ते में मुझे एक पहचान वाला मिला। उसके साथ बाइक पर बैठकर सिमरोल रोड आरओबी के नीचे से कोदरिया जाने वाले मार्ग के किनारे उतर गया। यहां से बाइक वाला साथी कोदरिया चला गया। उसके बाद मैंने वहीं खड़े होकर सिगरेट पी। इसके बाद आरओबी के बोगदे में से मैं चक्कीवाले महादेव मंदिर पहुंचा। यहां कुत्ते मेरे पीछे लगे तो उन्हें पत्थर मारकर भगाया। इसके बाद बच्ची लेटी हुई दिखी तो मैंने उसे दोनों हाथों से उठाया व लेकर भागते हुए 200 मीटर दूर खंडहर पहुंचा। यहां पर बच्ची से दुष्कर्म कर मारने के बाद मैंने झाड़ियों के पीछे उसके कुछ कपड़े फेंके। उसके बाद मैं सीधे प्रशांति अस्पताल वाले मार्ग पर आया व वहां से अपने घर जाकर सो गया।


ऐसे हुआ खुलासा
जांच टीम को मामले में चक्कीवाले महादेव व पुलिस स्टेशन रोड पर दो जगह संदिग्ध के सीसीटीवी फुटेज मिले। फुटेज को आसपास के एरिया में रहने वाले 50 से ज्यादा लोगों को दिखाया। ऑटो रिक्शा चालक गजनी नामक युवक ने फुटेज से आरोपी की पहचान की व बताया यह अंकित विजयवर्गीय है। आरोपी की पहचान होते ही पुलिसकर्मी विजय यादव अंकित पिता कमल सिंह विजयवर्गीय (28) को पकड़ने उसके घर गया। इस दौरान वह घर पर सो रहा था। इसके बाद जब उसे बुलाकर पूछताछ की, तो पहले तो उसने गफलत में डालने की कोशिश की। इस दौरान उसकी मां ने भी यह कहा कि वह तो रात को घर जल्दी आ गया था। इसके बाद उसके सफेद जूते दिखने पर उसे थाने लेकर पहुंचे। यहां थाने में उससे सख्ती से पूछताछ की, तो उसने वारदात कबूली। इसके बाद जब जैकेट जब्त करने की बारी आई, तो पुलिस दोबारा घर पहुंची, इस पर जैकेट को लेकर परिजनों ने विरोध जताया। जब उसके घर में रखी अलमारी की सर्चिंग की, तो वारदात के दौरान उसके द्वारा पहना काला जैकेट भी बरामद हुआ।


बच्ची शोर मचाने लगी तो उसका मुंह दबाया, सांसें रुकने लगी तो घबराया
आरोपी ने बताया था कि मैंने चक्कीवाले महादेव मंदिर के पास से बच्ची को उठाया व सीधे खंडहर भवन के कमरे में जो ठीया था, वहां लेकर गया। इस दौरान बच्ची से दुष्कर्म की कोशिश की, तो वह जाग गई व शोर मचाने लगी। मैंने उसका मुंह दबाया। उसकी सांसें रुकने लगी, तो लगा मर गई। इसके बाद जब उसकी छाती देखी तो सांसें चल रही थीं। इस पर मैंने दोबारा दुष्कर्म की कोशिश की। इस दौरान बच्ची की सांसें रुक गईं। वह मर गई तो मैं उसे वहीं छाेड़कर अपने घर चला गया।


दो साल पहले वृद्धा को भी दुष्कर्म की नीयत से उठाया था, लोगों ने पकड़कर पिटाई की थी
आरोपी अंकित आदतन अपराधी है। दो साल पहले भी स्टेशन के पास उसने नशे की हालात में एक बुजुर्ग महिला को दुष्कर्म की नीयत से उठाया था। जैसे ही वह उसे सूनसान जगह ले जा रहा था, तो लोगों ने उसे देख लिया था। उस वक्त उसकी जमकर पिटाई की थी। इस मामले में कोई पुलिस केस दर्ज नहीं हुआ था। वहीं आरोपी ने जिस खंडहर में बच्ची के साथ दुष्कर्म किया, वहां वह पहले भी वैश्यावृत्ति जैसी हरकतें कर चुका है।


चाट का ठेला भी लगाया, डीजे ऑपरेटिंग का काम भी करता था
आरोपी अंकित ने घटना के कुछ समय पहले ही कोदरिया की एक लड़की से लव मैरिज की थी। इसे उसके परिजनों ने अरेंज में तब्दील कर उसकी शादी कराई थी। उस वक्त उसकी पत्नी आठ महीने की गर्भवती थी। आरोपी ने चाट का ठेला लगाने के साथ ही डीजे साउंड आॅपरेटिंग का काम भी किया है। आरोपी नशे व शारीरिक संबंध बनाने का आदी था, इसके चलते वारदात के कुछ दिन पहले भी उसका अपनी पत्नी से विवाद हुआ था। उसकी आदत है नशे के बाद किसी को बीड़ी पीता देख, उसे चाचा कहकर बीड़ी व सिगरेट मांगकर पीता था।