महिंद्रा ने पीथमपुर में पहले डेडिकेटेड फार्म मशीनरी प्लांट का उद्घाटन किया

पीथमपुर । 'मेड इन इंडिया' फार्म मशीनरी उत्पादों के जरिए अगले 5 वर्षों में अपने फार्म मशीनरी बिजनेस (ट्रैक्टर को छोड़कर) को 10 गुना बढ़ाने की महिंद्रा की दमदार योजना का हिस्सा नया प्लांट मध्य प्रदेश में फार्म मशीनरी के लिए सबसे बड़े केंद्र का निर्माण करेगा माननीय केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्य संबोधन दिया, इस अवसर पर प्रदेश के महत्वपूर्ण अधिकारीगण और गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे पीथमपुर, 15 नवंबर, 2022: महिंद्रा समूह की सहायक कंपनी, महिंद्रा एंड महिंद्रा फार्म इक्विपमेंट सेक्टर (एफईएस) ने मध्य प्रदेश के पीथमपुर में अपने पहले डेडिकेटेड फार्म मशीनरी प्लांट (नॉन-ट्रैक्टर) का आज औपचारिक उद्घाटन किया।माननीय केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री, भारत सरकार, श्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा नए संयंत्र का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर राज्य के प्रमुख अधिकारी, गणमान्य व्यक्ति और महिंद्रा एंड महिंद्रा के वरिष्ठ लीडर्स उपस्थित रहे।महिंद्रा का नया फार्म मशीनरी प्लांट महत्वपूर्ण रूप से औद्योगिक शहर पीथमपुर में स्थित है, जिसकी पहुंच विविध आपूर्तिकर्ता आधार तक है, जो कंपनी को टिकाऊ, उच्च-गुणवत्ता युक्त, किफायती और सुलभ 'मेड इन इंडिया, फॉर इंडिया' फार्म मशीनरी का निर्माण करने में सक्षम बनाता है, जिसका विपणन महिंद्रा और स्वराज दोनों ही ब्रांड्स के लिए किया जा सकता है। यह प्लांट एशिया, अफ्रीका, यूरोप और अमेरिका के वैश्विक बाजारों में निर्यात के लिए उत्पादों का निर्माण भी करेगा।अपने सुनियोजित लेआउट के साथ, यह नया प्लांट फिनलैंड, जापान और तुर्की में महिंद्रा के ग्लोबल टेक्नोलॉजी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस में डिजाइन किए गए नए उत्पादों की श्रृंखला को रोल-आउट करने में सक्षम है। यह संयंत्र 23 एकड़ में फैला है और इसमें प्रति वर्ष 1,200 कंबाइन हार्वेस्टर एवं 3,300 राइस ट्रांसप्लांटर्स का निर्माण करने की क्षमता है। अपने समर्पित आपूर्तिकर्ता पार्क के साथ, पीथमपुर संयंत्र द्वारा अंततः 1,100 व्यक्तियों को रोजगार प्रदान किए जाने की उम्मीद है।नए फार्म मशीनरी संयंत्र के शुभारंभ समारोह के दौरान बोलते हुए, माननीय केंद्रीय कृषि और ग्रामीण कल्याण मंत्री, श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, “मध्य प्रदेश में, महिंद्रा समूह द्वारा फार्म मशीनरी के लिए इस अनूठे संयंत्र के शुभारंभ के अवसर पर यहां आकर मुझे बहुत खुशी हो रही है। महिंद्रा द्वारा राज्य में सबसे उल्लेखनीय निवेशों में से एक किया गया है जिससे इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान किए जा सके हैं। आज, यह समूह पीथमपुर में 'मेड इन इंडिया' कृषि मशीनरी के निर्माण के लिए अपनी नई ग्रीनफील्ड सुविधा के शुभारंभ के साथ अपने निवेश को और बढ़ा रहा है। यह न केवल महिंद्रा समूह के लिए, बल्कि देश और हमारे किसानों के लिए भी एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।"उन्होंने आगे कहा, "विश्व स्तर पर, मशीनीकरण उच्च कृषि विकास और उच्च खाद्य सुरक्षा के प्रमुख घटकों में से एक रहा है। इस संबंध में किए गए कई अध्ययनों से बढ़े हुए पैदावार और कृषि मशीनीकरण के बीच सीधे संबंध का पता चला है। 2030 तक भारत में कृषि मशीनीकरण को दोगुना करने की महत्वाकांक्षा के साथ, सरकार भारत ने भारतीय कृषि के अधिक से अधिक मशीनीकरण का समर्थन करने के लिए कई योजनाएं और नीतियां पेश की हैं और कृषि मशीनीकरण में आत्मनिर्भरता लाना उनमें से एक है।" 



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र