दोनों नवरात्रि में नहीं बदलती श्रृंगार, 9 दिन होता है जगराता, मराठा, क्षत्रिय-ब्राह्मण सहित 18 कुलों की कुलदेवी है मां गढ़कालिका

आशीष यादव, धार 

शहरवासियों की आराध्य मां गढक़ालिका पर ब्रह्म मुहूर्त में घटस्थापना के साथ शारदीय नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। नवरात्र की पहली काकड़ा आरती में बड़ी संख्या में श्रद्धालु माता के दरबार में हाजरी लगाने पहुंचे थे। झांझ-मंजीरे और ढोल-नगाड़ों के साथ मां की आरती के बाद घटस्थापना की गई। प्रतिदिन नवरात्र में मां कालिका की 6 आरतियां होंगी। हर आरती का अपना एक महत्व है। श्रंगार से लेकर भोजन और विश्राम से पहले माता की आरती होती है। शारदीय नवरात्र में नौ दिनों तक माता जागरण करती है इसलिए पूरे नौ दिन माता का दरबार खुला रहता है और भक्तों के दर्शन की व्यवस्था रहती है।


धार का प्राचीन गढक़ालिका माता मंदिर दो हजार वर्ष से अधिक पुराना है। वर्तमान में मंदिर का संचालन गढक़ालिका माता ट्रस्ट करता है। जबकि पूजा का अधिकार पुजारी के रूप में उपाध्याय परिवार को है। उपाध्याय परिवार की 34वीं पीढ़ी पुजारी की गद्दी संभाल रही है और माता की सेवा में है। पुरखों से उपाध्याय परिवार मां गढक़ालिका की पूजा करता आ रहा है।


मंदिर के पुजारी करूण उपाध्याय ने बताया शारदीय नवरात्र में मंदिर 24 घंटे खुले रहते है। नवरात्र पर सुबह 4 बजे काकड़ आरती होती है। इसके बाद माता का श्रंगार नव्वारी साड़ी 16 हाथ की महाराष्ट्रीयन साड़ी से होता है। साथ ही परमारकालीन गहनें माता को पहनाए जाते है। एक बार श्रंगार होने के बाद नौ दिन बाद दशहरे पर ही दोबारा स्नान और श्रंगार किया जाता है। नवरात्र समापन से पहले धार राजघराने द्वारा अष्टमी पर हवन करवाया जाता है, रात 8 से शुरू होकर रात करीब 1 बजे तक हवन चलता है। ग्यारस पर बाड़ी पूजन और ज्वारे का विसर्जन किया जाता है।



हर आरती का अपना महत्व

काकड़ आरती सुबह 4 बजे होती है। नवरात्री के नौ दिन काकड़ आरती होती है। इसमें माता को रबड़ी का भोग लगता है। बड़ी संख्या में श्रद्धालु काकड़ आरती में शामिल होते है।

श्रंगार आरती सुबह 9 बजे माता का श्रंगार होने के बाद की जाती है।

पंच खाद्य आरती में सुबह 10.30 बजे ड्रायफू्रट भोग मां कालिका को लगाकर आरती की जाती है।

भोजन आरती सुबह 11.30 बजे होती है। यह वक्त माता के भोजन का वक्त है। इसमें मां के पसंदीदा व्यंजन रोजाना मंदिर की रसोई में तैयार करवाए जाते है।

संध्या आरती रोजाना शाम 7 बजे होती है। इसमें मां गढ़ाकालिका को खीर-पूरी और नैवेद्य का भोग लगता है

शायन आरती रात 9 बजे होती है। इसमें माता को दूध का प्याला लगाने के बाद विश्राम के लिए पालना लगाया जाता है। नवरात्री में जागरण के कारण पालना नहीं लगता


पीढिय़ों से रहता है उल्लूओं का परिवार

मंदिर के पुजारी उपाध्याय बताते है कि दशकों से मंदिर के शिखर पर उल्लूओं का परिवार भी रहता आया है कई पीढिय़ों से उल्लू यहां मौजूद है और वर्तमान में भी दुर्लभ प्राजाती के उल्लू यहां पर मां कालिका के मंदिर के शिखर के बीच रहते है रात के वक्त इन्हें देखा भी जा सकता है


18 कुलों की देवी है मां कालिका

मां गढक़ालिका के भक्त पूरे साल महाराष्ट्र, गुजरात और मालवा-निमाड़ से आते है। खासतौर पर मां गढक़ालिका 18 कुलों की कुलदेवी है। इनमें मराठा, क्षत्रिय, ब्राह्मण, वैश्य व क्षुद्र आदि कुल माता को पूजते है। धार राज घराना यानी पंवार परिवार की भी कुलदेवी मां गढ़कालिका है।


शरद पूर्णिमा पर होता है समापन

शारदीय नवरात्रि पर शुरू होने वाला नौ दिनी पूजन और उत्सव दशहरे पर खत्म नहीं होता। गढक़ालिका मंदिर पर यह पूजन शरद पूर्णिमा के दिन खत्म होता है। शरद पूर्णिमा पर पूर्णिमा की चांदनी में खीर खैवन के बाद मां गढक़ालिका को भोग लगाया जाता है। इसके बाद नवरात्र उत्सव का विधिवत समापन होता है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र