हादसा ऐसा की रूह कांप जाए, 12 यात्रियों के शव बहार निकाले गए, मौत की सुबह यात्रियों को नहीं पता था कि सोमवार मौत का वार होगा

 आशीष यादव धार

सुबह का नाश्ता कर यात्री बस निकली ही थी ही की कुछ किलोमीटर की दूरी पर दुर्घटनाग्रस्त हो गई वही नर्मदा नदी में सवारियों से भरी महाराष्ट्र परिवहन बस गिर गई है, घटना की जानकारी मिलते ही राहत दल रवाना हो गया है, बस में कितने लोग हताहत हुए हैं, इसकी जानकारी अभी किसको को नही है। बस इंदौर से पुणे जा रही थी बस में 30 से 40 लोग सवार से राहत कार्य अभी भी जारी है. अभी तक 13 डेड बॉडी बाहर निकाली गई है। गाड़ी को बाहर निकाल ली गई मृतकों की संख्या बढऩे की संभावना है।


रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ था ऐसे 

जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र डिपो की एक बस बस क्रमांक Mh40N9848 नर्मदा नदी के पुल को क्रास कर रही थी, उसी समय खलघाट पुल से बस नर्मदा नदी में गिर गई, जानकारी मिलते ही राहत दल सुबह ही पहुंच गया और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया है, राहत दल के सदस्य नाव और बोट लेकर नदी में यात्री को तलाश रहे हैं, जल्द ही बस में सवारियों यात्रियों को ढूंढ लिया जाएगा, ।


इंदौर से पुणे जा रहे थे लोग

बस में करीब 40 यात्री सवार थे, वे महाराष्ट्र डिपो की बस में सवार होकर इंदौर से पुणे की तरफ जा रहे थे, इसी बीच खलघाट पर स्थित इस पुल से बस अनियंत्रित होकर गिर गई, खलघाट संजय सेतु से बस गिरने से कई यात्रियों की जान मुश्किल में है, फिलहाल नदी में राहत दल नाव और बोट लेकर तरास रहे है, यात्रियों को बाहर निकालने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है। बताया जा रहा है कि इस पुल का आधा हिस्सा धार तो दूसरा हिस्सा खरगोन जिले में आता है।

एक भी जीवित नही निकला

अब तक एक भी यात्री जीवित नहीं मिला खलघाट टोल नाके की हाईवे एम्बुलेंस के ड्राइवर श्रीकृष्ण वर्मा ने बताया- मैं ड्यूटी पर था । सुबह 10.03 बजे कंट्रोल रूम से कॉल आया । सूचना मिली कि पुल से एक बस नर्मदा नदी में गिर गई है । सूचना मिलने के करीब 3 मिनट के भीतर घटनास्थल पर पहुंच गया था । बस नदी में गिरी हुई थी । तत्काल रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया । नदी से अब तक एक भी व्यक्ति जीवित या घायल नहीं निकाला जा सका है । बस को नदी से निकाल लिया गया है । बस में इंदौर और राजस्थान के जयपुर , उदयपुर के यात्री भी सवार थे ।


स्थानीय लोग आगे आए मदद के लिए 

शवों को निकाला हादसे की जानकारी लगते ही खलघाट के स्थानीय लोगों ने सबसे पहले मदद की । जो फोटो और वीडियो सामने आए हैं , उनमें स्थानीय लोग शवों को खोजते दिखे । कुछ लोग अपनी नाव से शवों बाहर निकाल रहे थे । उधर , इंदौर और धार से NDRF की टीम मौके पर पहुंच गई है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस घटना पर दुख जताया है । प्रधानमंत्री ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए सहायता देने की घोषणा की है । घायलों को 50 हजार रुपए की मदद दी जाएगी । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी मृतकों के परिजन को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की । महाराष्ट्र की बस होने की वजह से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को घटना की जानकारी दी । में इन्होंने गंवाई जान हादसे में जान गंवाने वाले 11 लोगों की पहचान हो गई है । तीन लोग राजस्थान , एक इंदौर ( मध्यप्रदेश ) और




बाकी महाराष्ट्र से हैं । शवों को धामनोद ( धार , मध्यप्रदेश ) के सरकारी अस्पताल में रखा गया है ।


1. चेतन पिता राम गोपाल जांगिड़ , नांगल कला गोविंदगढ़ ( जयपुर - राजस्थान ) 2. जगन्नाथ ( 70 ) पुत्र हेमराज जोशी , मल्हारगढ़ ( उदयपुर - राजस्थान ) 3. प्रकाश ( 40 ) पुत्र श्रवण चौधरी , शारदा कॉलोनी अमलनेर ( जलगांव - महाराष्ट्र ) 4. नीबाजी ( 60 ) पुत्र आनंदा पाटिल , निवासी पीलोदा अमलनेरगां ( जलगांव - महाराष्ट्र ) 5. कमला बाई ( 55 ) पत्नी नीबाजी पाटिल , पिलोदा अमलनेर ( जलगांव - महाराष्ट्र ) 6. चंद्रकांत ( 45 ) पुत्र एकनाथ पाटील , अमलनेर ( जलगांव - महाराष्ट्र ) 7. अरवा ( 27 ) पत्नी मुर्तजा बोरा , मूर्तिजापुर ( अकोला - महाराष्ट्र ) 8. सैफुद्दीन पुत्र अब्बास , नूरानी नगर ( इंदौर मध्यप्रदेश ) - 9. राजू पुत्र तुलसीराम मोर , रावतभाटा ( चित्तौड़गढ़ - राजस्थान ) 10. अविनाश पुत्र संजय परदेसी , पाटन सराय अमलनेर ( जलगांव - महाराष्ट्र ) 11 . विशाल ( 33 ) पुत्र सतीश बहरे , विर्देल ( धुले महाराष्ट्र ) 


टिप्पणियाँ
Popular posts
स्टेयरिंग फेल होने से घर में घुसी पिकअप, ड्राइवर की मौके पर ही मौत तीन घायल, - घटना के बाद ग्रामीणों ने स्टेट हाईवे पर लगाया जाम, वाहनों की लंबी कतार
चित्र
कोठीदा का मिट्टी वाला बांध हुआ लिकेज, एक दर्जन से अधीक ग्राम के लोग घबराए
चित्र
तबाही का मंझर आंखों के सामने~~~ 2 दिन से चल रहा डेम में लीकेज सही करने का काम, बाँध को खाली करने की जा खुदाई में आ रही दिक्‍कत दोनों ओर बनाई जा रही चेनल
चित्र
दोषियों पर कारवाई क्यो नही:, वीडियो से मिली डेम की लगी जानकारी जिम्मेदार अधिकारी को पानी रिसने की नही थी जानकारी, जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने उद्योग मंत्री दत्तीगांव के साथ किया मुआयना
चित्र
बाग में पटवारी की मिलीभगत से दूसरे जमीन घोटाले में भी केस दर्ज
चित्र