सेनेटाइजर घोटाला : १४.४५ लाख रुपए का सेनेटाइजर के नाम पर भुगतान, आया कितना इसका रिकार्ड नहीं

 


आशीष यादव, धार

जिन तारीखों में जावक रजिस्टर में बांटा सेनेटाइजर, उन तारीखों में वाहनों की लॉगबुक में नहीं इंट्री

पेचवर्क की शिकायत लोकायुक्त और ईओडब्ल्यू में, पूर्व सीएमओ और स्टोर किपर पर अनियमितता का आरोप 

शहर में वर्ष२०२०-२१ में कोरोनाकाल के वक्त आपदा को अवसर बनाकर सेनेटाइजर के नाम पर लाखों रुपए का भुगतान किया गया। लेकिन जितना सेनेटाइजर क्रय करना फाइलों में बताकर भुगतान किया गया, उतनी मात्रा में सेनेटाइजर पहुंचा ही नहीं। सूचना का अधिकार में प्राप्त दस्तावेजों के आधार पर आईटीआई एक्टिवीस्ट सुनील सावंत ने खुलासा किया है। 

प्रेसवार्ता में शुक्रवार को सावंत ने कहा कि अंकित बिल्डकॉन ३५, मयूर नगर गली मूसाखेड़ी इंदौर की फर्म से नगर पालिका ने २० जून २०२० को सोडियम हाईपोक्लोराइड खरीदा था। यह सोडियम हाईपोक्लोराइड का इस्तेमाल सेनेटाइजर के रूप में शहर में छिडक़ाव के लिए किया गया। नपा ने ३५ हजार लीटर सोडियम हाईपोक्लोराइड दवाई ४१.३० रुपए प्रति लीटर की दर से अंकित बिल्डकॉन से क्रय किया। इसके बदले १४ लाख ४५ हजार ५०० रुपए का फर्म को भुगतान करवाया गया। सावंत ने प्रेसवार्ता में कहा कि इस खरीदी के बाद जुलाई से लेकर नवंबर-२०२० तक नपा ने लॉगबुक में ट्रैक्टर व फायर बिग्रेड से छिडक़ाव करना बताया। 

इसलिए है घोटाले का आरोप 

सावंत ने बताया कि लॉगबुक में सेनेटाइजर को ट्रैक्टर व फायर बिग्रेड को इश्यू करना बताया। लेकिन उन वाहनों के नंबर लॉगबुक में नहीं डाले गए। जुलाई, अगस्त और सितंबर तक नियमित छिडक़ाव लॉगबुक में दर्शाया है। सावंत ने कहा जिन तारीखों में नपा ने लॉगबुक में सेनेटाइजर छिडक़ाव करना दर्शाया है, उन तारीखों में शहर में बारिश हो रही थी। कृषि विभाग द्वारा जारी बारिश मापक सूची भी उन्होंने प्रेस से साझा की है। जिससे घोटाले के आरोप पुख्ता होते है। उन्होंने बताया कि नपा की स्टोर शाखा द्वारा इस मामले में आधी-अधूरी जानकारी वर्तमान में उपलब्ध करवाई। जबकि इसमें ३५ लाख रुपए तक सेनेटाइजर खरीदी होने का अनुमान है। सावंत ने कहा कि जितनी मात्रा में सेनेटाइजर खरीदा गया है, उसकी आवक-जावक का मिलान नहीं है। 

वाहनों के लॉगबुक में इंट्री नहीं 

सावंत ने खुलासा करते हुए बताया कि जिन माह में स्टोर द्वारा ट्रैक्टर और फायर बिग्रेड से छिडक़ाव होना दर्शाया गया है। उन्हीं तारीखों में का मिलान ट्रैक्टर और फायर बिग्रेड वाहन में नहीं हो रहा है। न तो फायर बिग्रेड की लॉगबुक में उन माह में छिडक़ाव होने की इंट्री है और न ही ट्रैक्टर की लॉगबुक में इसकी इंट्री होने की जानकारी सामने आई है। उन्होंने जिम्मेदार अधिकारी पूर्व सीएमओ व स्टोर कीपर पर कार्रवाई की मांग की है। 

लोकायुक्त को भेजी शिकायत 

- इस सेनेटाइजर घोटाले के अलावा आरटीआई कार्यकर्ता सावंत ने पेंचवर्क के नाम पर की गई डामर खरीदी और वर्ष-२०१९-२० व २०२०-२१ में लेबर इंडस्ट्रीज भोपाल से जर्म कीलर साल्यूशन खरीदी की शिकायत लोकायुक्त सहित सीएम व प्रमुख सचिव को की है। इसमें बताया कि जर्म कीलर सॉल्यूशन खरीदी के स्टॉक रजिस्टर में इंट्री है, लेकिन खतौनी खर्च रजिस्टर में स्टोर कीपर पुनीत तिवारी द्वारा खर्च किए गए साल्यूशन की इंट्री दर्ज नहीं की गई है। 


फोटो

प्रेसवार्ता में जानकारी देते आरटीआई कार्यकर्ता सुनील सावंत 



टिप्पणियाँ
Popular posts
दिगठान में कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया
चित्र
आधुनिक दौर के पँचायत चुनाव~ समय के साथ बदलते दौर में बदलते चुनाव तरीके से प्रचार कर रहे गांवों में सरपंच प्रत्याशी~ ग्रामीण इलाकों में बदला प्रचार करने का तरीका हर रोज आ रहे नए नुस्खे
चित्र
डॉक्टर डे पर की लोकायुक्त ने महिला डॉक्टर के साथ बनाया नर्स को भी आरोपी बनाया आरोपी, डिलीवरी कराने के नाम पर मांगे थे 8 हजार रुपये
चित्र
जलदेवता को मनाने नगर में निकाली जिंदा मुर्दे की शव यात्रा
चित्र
धार में दूसरे चरण का मतदान हुए सम्पन्न , 12 सो हजार पुलिसकर्मी केंद्रों पर तैनात, मतदान केंद्र पर लंबी कतार~~ शांतिपूर्ण हुए मतदान 77 प्रतिशत मतदान 3 लाख 32 हजार से अधिक मतदाता ने डाले वोट
चित्र