एक नागरिक को हर धर्म का करना चाहिए सम्मान तभी राष्ट्र मजबूत होता है~ पायल प्रमाणिक, इन्दौर

 


राष्ट्रवाद एक ऐसी अवधारणा है जिसमें राष्ट्र सर्वोपरि होता है अर्थात राष्ट्र को सबसे अधिक प्राथमिकता दी जाती है। यह एक ऐसी विचारधारा है जो किसी भी देश के नागरिकों की साझा पहचान को बढ़ावा देती है। किसी भी राष्ट्र की उन्नति एवं संपन्नता के लिए नागरिकों में सांस्कृतिक, धार्मिक और भाषाई विविधता से ऊपर उठकर राष्ट्र के प्रति गौरव की भावना को मजबूती प्रदान करना आवश्यक है और इसमें राष्ट्रवाद एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

राष्ट्रवाद यानि राष्ट्र के प्रति समर्पण की भावना का विकास किसी भी देश के नागरिकों की एकजुटता के लिए आवश्यक है। यही वजह है कि बचपन से ही स्कूलों में राष्ट्रगान का नियमित अभ्यास कराया जाता है और आजकल तो सिनेमाघरों में भी फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान चलाया जाता है, और साथ ही पाठ्यक्रमों में देश के महान सपूतों, वीरों एवं स्वतंत्रता सेनानियों की गाथाओं का समावेश किया जाता है।आजकल राष्ष्ट्र और धर्म को एक तराजू में तोला जा रहा है जबकि दोनो ही चीजे अलग अलग है।

देश के प्रति समर्पण की भावना हर नागरिक में होनी चाहिए मगर जरूरी नहीं है कि उसको धार्मिक होना चाहिए।मगर एक नागरिक को हर धर्म का सम्मान करना आना चाहिए। ये ही एक अच्छे नागरिक की पहचान है।


टिप्पणियाँ
Popular posts
*धरती माँ की प्यास बुझाने के लिए महु में होंगा हलमा*
चित्र
म.प्र. के गुना में हुए शिकार, शिकारियों द्वारा तीन पुलिसकर्मियों की हत्या & शिकारियों की पृष्ठभूमि का वरिष्ट पत्रकार अतुल गुप्ता द्वारा बहुत ही सटीक विश्लेषण
चित्र
तिरला पुलिस के 3 दिन के रिमांड पर भू कारोबारी भोला तिवारी, जमीन खरीदी में धोखाधड़ी के मामले में महिला की शिकायत पर दर्ज हुआ था प्रकरण
चित्र
प्रेशर से फीस मांग नहीं सकते,छात्रवृत्ति मिली आधी रोकस ने थमा दिए 1 करोड़ चुकाने के नोटिस, मुश्किल में 12 नर्सिंग कॉलेज के संचालक, कोविड काल में ट्रेनिग की राशि मांग
चित्र
अलीराजपुर जिले की स्थापना दिवस पर चंद्रशेखर आजाद नगर में गौरव रैली का आयोजन
चित्र