आज मजदूर दिवस पर कवयित्री गीतांजलि कश्यप की एक बेहतरीन कविता

 




चलते-चलते थका हूँ मैं पर साहस

अभी डिगा नही,

हूँ मजदूर मेहनतकश मैं आसान

रास्ता कभी मेरे लिए था ही नही,

मीलो चलना अब दिखता है, सूरज में खपना अब दिखता है,

ऊंची ऊंची इमारतों पर नीचे ऊपर नीचे ऊपर हर दम ही तो चलता था मैं,

तब ना थी तुमको मेरी कदर तो अब क्यो करते हो तुम मेरी फिकर,

हाँ चला हूँ कदमों से गगन नापने गर गिरू जमीं पर तो अफ़सोस कैसा

भूखा हूँ चोटिल हूँ पर मरहम की तुमसे क्यों दरकार करूँ, चुना है रास्ता मैंने खुद ही, मैं ही बना के नैया समुंदर पार करूँ।


                                                          लेखक-गीतांजली कश्यप

टिप्पणियाँ
Popular posts
*धरती माँ की प्यास बुझाने के लिए महु में होंगा हलमा*
चित्र
म.प्र. के गुना में हुए शिकार, शिकारियों द्वारा तीन पुलिसकर्मियों की हत्या & शिकारियों की पृष्ठभूमि का वरिष्ट पत्रकार अतुल गुप्ता द्वारा बहुत ही सटीक विश्लेषण
चित्र
तिरला पुलिस के 3 दिन के रिमांड पर भू कारोबारी भोला तिवारी, जमीन खरीदी में धोखाधड़ी के मामले में महिला की शिकायत पर दर्ज हुआ था प्रकरण
चित्र
प्रेशर से फीस मांग नहीं सकते,छात्रवृत्ति मिली आधी रोकस ने थमा दिए 1 करोड़ चुकाने के नोटिस, मुश्किल में 12 नर्सिंग कॉलेज के संचालक, कोविड काल में ट्रेनिग की राशि मांग
चित्र
अलीराजपुर जिले की स्थापना दिवस पर चंद्रशेखर आजाद नगर में गौरव रैली का आयोजन
चित्र