नारी पर श्रीमती अंजू जैन की लिखी एक बेहतरीन कविता

                                                                            नारी हूँ 



नारी हूँ ……

नही करती निराश नर को ।

जिस रूप में चाहो

उस रूप में सजा देती हूँ घर को,

कभी मातृत्व से ,कभी स्नेहत्व से

कभी लेकर स्वरूप अर्धांगिनी का

रच बस जाती हूँ तुम्हारे वूंश में….

नारी हूँ……

नही करती निराश नर को

तुम चाहे मानो या ना मानो….

तुम्हारे जीवन का सूर्य हूँ मैं 

तुम्हारे जीवन की भोर हूँ मैं

तुम्हारी राखी की डोर हूँ मैं

दीवाली के दीपों की ज्योत हूँ मैं

होली के जितने रंग खेलते हो तुम,

उन रंगों की रंगरेज हूँ मैं,

शक्तिपुंज बनकर हर बार

तुम्हें पोषित करती हूँ मैं

नारी हूँ ……

नही करती निराश नर को।


                                                                                      ---श्रीमती अंजू जैन 



टिप्पणियाँ
Popular posts
*धरती माँ की प्यास बुझाने के लिए महु में होंगा हलमा*
चित्र
तिरला पुलिस के 3 दिन के रिमांड पर भू कारोबारी भोला तिवारी, जमीन खरीदी में धोखाधड़ी के मामले में महिला की शिकायत पर दर्ज हुआ था प्रकरण
चित्र
प्रेशर से फीस मांग नहीं सकते,छात्रवृत्ति मिली आधी रोकस ने थमा दिए 1 करोड़ चुकाने के नोटिस, मुश्किल में 12 नर्सिंग कॉलेज के संचालक, कोविड काल में ट्रेनिग की राशि मांग
चित्र
अलीराजपुर जिले की स्थापना दिवस पर चंद्रशेखर आजाद नगर में गौरव रैली का आयोजन
चित्र
नगर परिषद के वार्ड 04, 11, 13,14, 06 में करोड़ो की लागत से बनने वाले सीसी व पहुच मार्ग का सांसद ,विधायक , नगर परिषद अध्यक्षा ने किया भूमि पूजन
चित्र