गल घूम, चूल पर चल उतारी मन्नत गंगानगर में मांदल की थाप व गूंजती रही कुराटी

आशीष यादव, धार

शुक्रवार को होलिका दहन के बाद से ही तिरला के समीप ग्राम गंगानगर में दो दिवसीय मेले का आयोजन हुआ। आदिवासी समुदाय के आस्था के केंद्र गल भेरू एवं चूल माताजी से जो मन्नत मांगी जाती है वो मन्नत धधकते अंगारों पर चलकर एवं गल घूमकर मन्नतधारी उतारते है। उसके बाद दोपहर से ही अपनी-अपनी टोली लेकर 40 से भी अधिक आदिवासी ग्रामों के लोगों द्वारा मांदल लेकर मेले में पहुंच कर शाम से अगली अलसुबह तक मांदल की थाप पर नृत्य करते रहते है। गंगानगर के इस भगोरिया मेले के साथ ही 

 गंगनगर के इस मेले के समापन के साथ ही भगोरिया पर्व का समापन हो जाता है। मेले में ग्राम पंचायत द्वारा पेयजल,प्रकाश एवं दुकानदारों के लिए टेंट की व्यवस्था की गई वही इस बार पीएचई विभाग ने भी पानी के प्याऊ लगाकर पेयजल की व्यवस्था की गई। ग्राम समिति गंगनगर का कार्य सरहानीय रहा। ग्राम पंचायत गंगानगर के मंच से सरपंच गोविंद सिंघार, महेश पाटीदार, मनोज पाटीदार, कृष्णा पाटीदार द्वारा मांदलो को पुरस्कृत किया गया। वही 

भारतीय जनता पार्टी के मंच से भाजपा जिला उपाध्यक्ष विश्वास पांडे, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि मोहन पटेल, उपाध्यक्ष गणेश जामुनिया, जनपद प्रतिनिधि अशोक मुवेल, लभारतीय जनता युवा मोर्चा के महामंत्री अंकित भावसार, कमलेश पाटीदार, हेमंत मोदी,नरेंद्र रघुवंशी, रामा मुकाती गंगानगर के सीताराम सहित पूरी टीम ने मेंले में आई मांदलो को केसरिया साफा पहनाकर उन्हें परितोष के रूप में नगद राशि के लिफाफे वितरित किए गए।

इस बार भी मेले पुलिसबल की व्यवस्था भी अच्छी रही, इस बार किसानों को गेंहू की फसल सूखकर खेतो में तैयार है जिसे देखते हुए फायर बिग्रेड भी तैनात रही। 




टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र