महफ़िल ए साहित्य के काव्य गोष्ठी के दरम्यान कविताओं के साथ बारिश की पहली फुहार पड़ी

महू ,रविवार 30 मई को संस्था अखिल भारतीय महफ़िल ए साहित्य (साहित्य मित्र मंडल कोदरिया महू) द्वारा एक आनलाइन साहित्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें देशभर के विभिन्न शहरों से 50 साहित्यकारों ने अपनी कविता , कहानी , संस्मरण एवं आलेख आदि का पाठ किया । संस्था इससे पूर्व समय में लगातार 12 घंटे के अनेक आयोजन तथा लगातार 25 घंटे का एक आयोजन भी कर चुकी हैं । संस्था से दिल्ली , राजस्थान , उत्तर प्रदेश , पंजाब , हरियाणा , छत्तीसगढ़ आदि राज्यों के साहित्यकार आनलाईन जुड़े हुए हैं । कल का कार्यक्रम प्रात: 10 बजे से रात्रि 10 बजे तक संस्था के वाट्सएप पटल पर लगातार चलता रहा । कार्यक्रम का संयोजन संस्था अध्यक्ष डॉ संजय श्रीवास्तव ने तथा आभार प्रदर्शन व संचालन सचिव द्रोणाचार्य दुबे ने किया । इस कार्यक्रम में संस्था के पदाधिकारी कवि श्री राधेश्याम गोयल , रमेश आंजना , गगन खरे , कीर्ति श्रीवास्तव , संजय देशवाली , संतोष मोहंती , रमेश जैन राही , निहारिका , अनूप श्रीवास्तव सहर , बिंदू पंचोली , डॉ विमल सक्सेना , पवन जोशी , आनंद कुमार मित्तल , डॉ पुष्कर कुमार , सीताराम पंवार , दुर्गेश कुमार , डॉ पार्वती व्यास , नवप्रीत कौर , डॉ दीपा , शोभारानी तिवारी , ममता श्रवण अग्रवाल , जितेन्द्र राज , विनोद सोनगीर , अरुण चौबे , मित्रा शर्मा , मनोहर लाल सोनी बाबा , हिमांशु श्रीवास्तव , राजेश चौबे , आशा जाकड़ , पुष्पा पाण्डेय , संतोष त्रिपाठी सुजान , राशिद अहमद शेख , अजय कुमार चौबे , संगीता चौबे पंखुड़ी , नलीन खोईवाल , नीतू झरोटिया , श्याम कुंवर भारती , डॉ दशरथ मसानिया , प्रीती कुमारी , जनार्दन शर्मा , अनिल श्रीवास्तव , प्रदीप शर्मा भोपाली , शोभा गोयल , राजकुमार जैन , सुधीर श्रीवास्तव , डॉ लवकुमार राठौर , कार्तिकेय त्रिपाठी ,  डॉ संजय श्रीवास्तव एवं द्रोणाचार्य दुबे ने रचनापाठ किया ।