चिकित्सा प्रकल्प चमेली देवी मेडिकल सेंटर का मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया लोकार्पण

 

चिकित्सा प्रकल्प चमेली देवी मेडिकल सेंटर का लोकार्पण राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह सरकार्यवाह श्री सुरेश जी सोनी तथा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के कर कमलों से हुआ l 


प्रकल्प संयोजक श्री गोपाल गोयल ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक परम पूज्य श्री माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर उपाख्य श्री गुरुजी का सम्पूर्ण जीवन लाखों युवाओं के लिए प्रेरणादायक था, जो उनकी एक आवाज पर अपना पूरा जीवन देश और समाज की सेवा में समर्पित करने को उद्यत हो गये। “नर सेवा ही नारायण सेवा”| इस पंक्ति मे धर्म का सार छिपा है| हिंदू धर्म ना केवल एक धर्म है अपितु यह एक जीवन शैली भी है जो की सेवा भाव को ही अपना धर्म समझता है|  यह वो धर्म है जो सभी व्यक्ति को समान मानता है| सभी जाति, संप्रदाय को समान दृष्टि से देखता है| 

हम भारत में ऐसी स्थिति में हैं जहाँ निजी स्वास्थ्य सुविधाएँ तो बढ़ रही हैं लेकिन सार्वजनिक नहीं l चिकित्सा सुविधाएँ समाज के अंतिम पंक्ति तथा शोषित वंचित और पीड़ित सदस्यों तक उपलब्ध हो सकें यही श्री गुरूजी सेवा न्यास का प्रयास है l श्री गोयल ने कहा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के द्वितीय संघचालक श्री माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर जिन्हें सभी गुरुजी के नाम से जानते हैं, के जन्मशताब्दी वर्ष 2006 में श्री गुरुजी सेवा न्यास की स्थापना की गई तथा बॉम्बे हॉस्पिटल के पीछे स्कीम नम्बर 54 में इंदौर विकास प्राधिकरण से ज़मीन क्रय की गई । वर्ष 2018 में ज़मीन का भूमिपूजन हुआ तब से इस चिकित्सा प्रकल्प के भवन का निर्माण प्रारम्भ किया गया। उन्होंने कहा कि जब गुरुजी के जन्मशताब्दी वर्ष की योजना स्वयमसेवकों के द्वारा 2006 में जब बनाई जा रही थी उस समय यह विचार किया गया कि यह योजना सिर्फ़ एक कार्यक्रम तक ही सीमित नहीं रह जाए बल्कि एक सतत चलने वाली प्रक्रिया बने । इसीलिए इस प्रकल्प की परिकल्पना की गई।

समाजसेवी विनोद जी अग्रवाल ने कहा कि स्वस्थ मानव से ही समृद्ध राष्ट्र का निर्माण सम्भव है। उन्होंने कहा कि समाज की अंतिम पंक्ति तक बैठे व्यक्ति तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुँच श्री गुरुजी सेवा न्यास जैसे प्रकल्पों से ही सम्भव है।

उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति श्री गुरूजी सेवा न्यास जैसे सेवा कार्यों से ही अक्षुण्ण बनी हुई है l ऐसे सेवा कार्यों से ही समाज में समानता तथा समरसता का वातावरण निर्मित होता है l  उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भी श्री गुरूजी सेवा न्यास तथा संघ कार्यकर्ताओं ने जो सेवा की मिसाल पैदा की है उसकी जितनी प्रशंसा की जाये उतनी कम है l 


मुख्यमंत्री श्री शिवराज जी चौहान ने कहा कि श्री गुरूजी ने मानवीय समाज को समानता की परिकल्पना दी। उनकी ईच्छा थी कि समाज के निचले तबके तक सभी योजनाओं का लाभ पहुंचे। वर्तमान में जिस प्रकार से कोरोना महामारी के कारण पूरी व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो चुकी है, वैसे में हम जैसे समाज सेवा से जुडे लोगों तथा संस्थाओं की जिम्मेदारी बढ जाती है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में संघ तथा सरकार का एक ही ध्येय था कि गांव-कस्बा का एक भी व्यक्ति भूख से नहीं व्याकुल होl उन्होंने कहा कि हमें गर्व का अनुभव होता है कि हम राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्त्ता हैl  उन्होंने कहा कि माधव सृष्टि श्री गुरूजी सेवा न्यास का यह अभिनव प्रयास पुरे मध्य भारत में अनूठा है और यह समाज तथा राष्ट्र में एक मिसाल कायम करेगा ऐसा पूर्ण विश्वास है l 

इंदौर उत्सव धर्मी है लेकिन अब स्वास्थ्य धर्मी भी बन रहा है ।

पहला सुख निरोगी काया यही ध्येय वाक्य हम सभी का होना चाहिए ।

इस प्रकल्प के हर कार्यकर्ता को मैं दिल से प्रणाम करता हूँ

बीमारी शरीर के साथ घर भी तोड़ देती है इसलिए समाज निरोगी रहे इसलिए हमें सामूहिक प्रयास करना होंगे।


राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह सर कार्यवाह श्री सुरेश जी सोनी ने कहा कि सेवा में समरसता का भाव होना जरुरी है l 

मानव स्वयं पर अनुशासन के कठोरतम बंधन तब बड़े आनन्द से स्वीकार करता है, जब उसे यह अनुभूति होती है कि उसके द्वारा कोई महान कार्य होने जा रहा हैl उन्होंने कहा कि न्यास के कार्यकर्ताओं ने तीन माह के छोटे से समय काल में जिस प्रकार से इस भव्य प्रकल्प का निर्माण किया है वह अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है l उन्होंने कहा कि संघ के समर्पित और निष्ठावान कार्यकर्ताओं ने जिस प्रकार मानसेवी भाव से दिन रात एक कर कम समय में तथा गुणवत्ता से कोई समझौता किये बगैर यह कार्य पूर्ण किया है जो कि निःसंदेह शोध का विषय है l   


प्रकल्प संचालन टोली के सीए अभय शर्मा ने वृत्त चित्र के माध्यम से बताया कि दूरदराज के ग्रामों और छोटे क़स्बों के सदस्य जब इलाज के लिए इंदौर जैसे शहरों में आते हैं तो उनके सामने सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि चिकित्सीय परामर्श किस चिकित्सक से लेना है और कहाँ उसका इलाज कम दामों में हो सकता है । इसके साथ ही जब व्यक्ति इंदौर जैसे शहरों में आता है तो उसके सामने आवास और भोजन की सबसे बड़ी समस्या होती है । मरीज़ के असंख्य परिजन खुले आसमान में अस्पताल प्रांगण में रात गुज़ारने को मजबूर होते हैं भोजन के लिए समाजसेवी संस्थाओं पर निर्भर रहते हैं और यदि भोजन व्यवस्था नहीं हो पाई तो भूखा रहकर जैसे तैसे अपना समय काटते हैं। उन्होंने कहा कि श्री गुरुजी सेवा न्यास तृतीय चरण में 100 बिस्तरों की रहवास तथा भोजन की व्यवस्था कर समाज के इस वर्ग को सुविधा प्रदान करने का प्रयत्न करेगा ।

मुकेश हजेला ने बताया कि लोकार्पण के साथ ही आम जनता को  चिकित्सा सुविधाएँ मिलना प्रारम्भ हो जायेगी जिसमें डायलिसिस, फ़िज़ियोथेरेपी, पैथोलोज़ी लैब, ब्लड बैंक, योग केंद्र, प्रधानमंत्री जन औषधीय केंद्र, आयुष्मान भारत योजना, ऐलोपैथी नैचूरोपैथी परामर्श केंद्र तथा पुस्तकालय सुविधा प्रारम्भ होगी। यह सभी सुविधाएँ लागत से भी बेहद कम मूल्यों पर उपलब्ध कराई जाएगी। जैसे डायलिसिस सुविधा मात्र 400 रुपए प्रति, फ़िजियोथेरेपी 100 रुपए प्रति विज़िट, परामर्श 50 रुपए में 10 दिन दवाई सहित, योग केंद्र 100 रुपए प्रति माह, दवाइयों तथा समस्त प्रकार की जाँचों में 70% का डिस्काउंट उपलब्ध कराया जाएगा|  उन्होंने कहा कि जल्द ही कोविड टीकाकरण सुविधा भी यहाँ उपलब्ध होगी l श्री हजेला ने बताया कि इस सेंटर की सबसे बड़ी विशेषता यह होगी की यहाँ सभी सुविधाएँ समाज के सभी वर्गों को कम क़ीमत में उपलब्ध होगी लेकिन कार्य की गुणवत्ता विश्वस्तरीय होगी।

इंदौर स्वच्छता में तो नम्बर १ रहा ही है 

अब इंदौर स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी और ख़ास तौर से पूर्ण स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी एक नम्बर बने इसके लिए माधव सृष्टि जैसे प्रकल्पों की बड़ी भूमिका रहेगी

इस अवसर पर समाजसेवियों और दानदाताओं का सम्मान किया गया।इसी संस्थान मे बने आयुष्मान कार्ड हितग्राहियों को वितरित भी किए गए।

कार्यक्रम का सञ्चालन डॉक्टर संजय लोंढे ने किया तथा धन्यवाद् अभिभाषण न्यास अध्यक्ष डॉक्टर मुकेश मौढ ने दिया l







Popular posts
अम्बेडकर विश्वविद्यालय, महू में भक्तिमयी शबरी पर कार्यक्रम का मंचन
चित्र
रामचरित्र मानस पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का हुआ आंबेडकर विश्वविद्यालय में आयोजन, कई महान विभूतियों ने लिया भाग
चित्र
आंबेडकर विश्वविद्यालय, महू की "बाबू जगजीवन राम पीठ" के प्रोफेसर के रूप में डॉ शैलेंद्र मणि त्रिपाठी ने किया अपना कार्यभार ग्रहण
चित्र
औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर के युवा तरुणाई शुभम पाराशर का जन्म दिवस मनाया गया धूमधाम से
चित्र
अम्बेडकर विश्वविद्यालय का ‘नक्सल ऑपरेशन एंड लेसन्स’ विषय पर राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन
चित्र