चन्द्रशेखर आजाद नगर में दिव्यांग विद्यार्थियों की प्रतियोगिता का आयोजन- Yashwant Jain


जीवन में कभी भी निराशा से नहीं घबराना चाहिए-एसडीएम सुश्री आंजना|


चंद्रशेखर आजाद नगर |दिव्यांग होना अलग बात हैं लेकिन जीवन में दिव्यांगता से कभी हताश या निराश नहीं होना चाहिए| इससे चुनौती समझकर स्वीकार कर आगे बढ़ना चाहिए| 

यह बात दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए आयोजित चित्रकला व खेल प्रतियोगिता के आयोजन अवसर पर चंद्रशेखर आजाद नगर एसडीएम सुश्री किरण आंजना द्वारा दिव्यांग विद्यार्थियों को संबोधित करते हुवे कहीं| कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए नगर पंचायत अध्यक्ष निर्मला डावर ने विद्यार्थियों की भरपूर सराहना की और उन्हें जीवन में आगे बढ़ने की शुभकामना दी| खंड शिक्षा अधिकारी विनोद कुमार कोरी द्वारा विद्यार्थियों के लिए शासन की ओर से आयोजित की गई प्रतियोगिता में सम्मिलित होने पर विद्यार्थियों को बधाई देते हुवे उनके उज्जवल भविष्य की कामना की| बीआरसी राजेंद्र बैरागी द्वारा शासन द्वारा आयोजित की जाने वाली दिव्यांग विद्यार्थियों की प्रतियोगिता के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि दिव्यांग प्रतियोगिता के माध्यम से विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करना और उन्हें आगे बढ़ाने के लिए समय-समय पर ऐसे आयोजन किए जाते रहे हैं उन्हें हमेशा प्रोत्साहित किया जाता रहा हैं| प्रतियोगिता के दौरान अलीराजपुर जिले के सेवानिवृत्त दिव्यांग शिक्षक महेंद्र सिंह परिहार का साल श्रीफल और पुष्प माला भेंटकर विशेष सम्मान नगर पंचायत अध्यक्ष निर्मला डावर व एसडीएम सुश्री किरण आंजना द्वारा किया गया| 

कार्यक्रम में भाग लेने वाले श्रेष्ठ प्रतियोगी विद्यार्थियों को मौके पर अतिथियों द्वारा पुरस्कार वह प्रशस्ति पत्र प्रदानकर सम्मानित किया गया| कार्यक्रम के अंत में विद्यार्थियों के लिए भोजन की व्यवस्था जनपद शिक्षा केंद्र चंद्रशेखर आजाद नगर के द्वारा की गई थी|

कार्यक्रम का संचालन हेमेंद्र गुप्ता द्वारा किया गया| आभार प्रदर्शन बीएसी राकेश चगोड़ ने व्यक्त किया| 

1- चंद्रशेखर आजाद नगर में आयोजित दिव्यांग प्रतियोगिता अवसर के शुभारंभ अवसर का|

2- दिव्यांग विद्यार्थियों के द्वारा बनाई गई चित्रकला का अवलोकन करते हुए नपा अध्यक्ष डावर व एसडीएम सुश्री आंजना

3- प्रतियोगिता के पश्चात पुरस्कार व प्रशस्ति पत्र विxतरण करते हुए नपा अध्यक्ष निर्मला डावर वह एसडीएम सुश्री अं जाना