रूप चौदस पर निखरे रूप

"रूप चौदस पर निखरे रूप"


        बैडिया ( नि प्र) धन तेरस से लेकर भाई दुज तक मनने वाले पाच दिवसीय पर्व का दूसरा दिन होता है रुप चौदस। इसे छोटी दीपावली भी कहते है। ऐसा कहते है इस दिन विधी विधान से पूजन करने वालो को सभी पापो से मुक्ति मिलती है एवं श्री कृष्ण ने रूप चौदस पर सौंदर्य का वरदान दिया है।


       ऋतु बदलती है और शरीर को नई ऋतु के लिए तैयार करने के मकसद से दीपोत्सव का यह दिन तन मन को सजाने संवारने के लिए नियत किया गया है।क्योंकि महालक्ष्मी साफ़ सुथरे घर और मन में ही प्रवेश करती है।


     पौराणिक कथा के अनुसार आज का दिन महिलाओं के लिए विशेष सजने संवरने का दिन होता है।इस दिन कोई होम सौंदर्य करती है तो कोई ब्यूटी पार्लर का सहारा लेती है ।



Popular posts
देवभूमि उत्तराखण्ड के एक वीर सपूत का देवलोक गमन
चित्र
सांसद पत्नी सूरज डामोर व नगर परिषद अध्यक्षा निर्मला डावर लगातार ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं से हो रहीं वोटिंग के लिए रुबरु~यशवंत जैन
चित्र
औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर के युवा तरुणाई शुभम पाराशर का जन्म दिवस मनाया गया धूमधाम से
चित्र
रामचरित्र मानस पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का हुआ आंबेडकर विश्वविद्यालय में आयोजन, कई महान विभूतियों ने लिया भाग
चित्र
अम्बेडकर विश्वविद्यालय का ‘नक्सल ऑपरेशन एंड लेसन्स’ विषय पर राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन
चित्र