रूप चौदस पर निखरे रूप

"रूप चौदस पर निखरे रूप"


        बैडिया ( नि प्र) धन तेरस से लेकर भाई दुज तक मनने वाले पाच दिवसीय पर्व का दूसरा दिन होता है रुप चौदस। इसे छोटी दीपावली भी कहते है। ऐसा कहते है इस दिन विधी विधान से पूजन करने वालो को सभी पापो से मुक्ति मिलती है एवं श्री कृष्ण ने रूप चौदस पर सौंदर्य का वरदान दिया है।


       ऋतु बदलती है और शरीर को नई ऋतु के लिए तैयार करने के मकसद से दीपोत्सव का यह दिन तन मन को सजाने संवारने के लिए नियत किया गया है।क्योंकि महालक्ष्मी साफ़ सुथरे घर और मन में ही प्रवेश करती है।


     पौराणिक कथा के अनुसार आज का दिन महिलाओं के लिए विशेष सजने संवरने का दिन होता है।इस दिन कोई होम सौंदर्य करती है तो कोई ब्यूटी पार्लर का सहारा लेती है ।