लिपिक वर्ग के सदस्यों ने आपदा प्रबंधन के लिए दिए ₹51000

अलीराजपुर:-कोरोना वैश्विक महामारी को लेकर मध्य प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ जिला शाखा आलीराजपुर ने मन बनाया कि कलेक्टर आपदा फंड में 51000 हजार की नगद राशि जमा की जाय किन्तु लिपिक परिवार आरम्भ से ही उपेक्षा का शिकार रहा है।


        पिछले 35 वर्षों से वेतन विसंगति का कड़वा गुठ पीता आ रहा लिपिक परिवार, इस महामारी के चलते पहले ही सरकार द्वारा 1 दिन का वेतन काट लिया, साथ ही समय पर मिलने वाले भत्ता व वेतन निर्धारण की किश्तों को भी रोक दिया। ऐसे में इस प्रकार का अभियान चलाना विचारणीय था, ऐसे में रविन्द्रनाथ टैगोर की गीत की वो लाईन याद आती है *एकला चलो रे* कार्य यदि पुनीत है तो रास्ते ईश्वर बनाता है कुछ ऐसा ही हुवा दिनांक 20 अप्रैल 2020 से राशि एकत्रित करने का अभियान चलाया बढ़चढ़कर लिपिक साथियो ने इसमें हिस्सा लिया 5 मई तक 51000 की राशि एकत्रित हो चुकी थी, किन्तु पुनीत कार्य करने की लालच कुछ और ही थी। समस्त लिपिक मित्रो ने मिलकर 2 ICU बेड 1 सक्शन मशीन व 1 ओटी फॉर्मिउकर मशीन की योजना बनाकर दिनांक 25 मई तक राशि एकत्रित कर ली राशि कम पड़ने पर कुछ साथियों दूसरी बार राशि देकर राशि को लक्ष्य तक पहुँचाया। लॉक डाउन होने से सामग्री प्राप्त होने में विलंब हुवा। दिनांक 30 जून को कलेक्टर महोदय के अनुमति से ICU बेड व अन्य सामग्री देने व कोरोना वारियर्स के नेतृत्वकर्ता का स्वागत आयोजन जिलाध्यक्ष श्री दिलीपसिंह पवार के नेतृत्व में आयोजित किया गया। आयोजन की अध्यक्षता कलेक्टर महोदया सुरभी गुप्ता द्वारा भारतीय परंपरा अनुसार माँ शारदा व माँ भारती की पूजा अर्चना की एवम दिलीप पवार जिलाध्यक, तहसील अध्यक्ष चतुर्वेदी एवम तिवारी जी द्वारा अथितियों का स्वागत किया ओर लिपिक परिवार द्वारा कोरोना वारियर्स के नेतृत्वकर्ता का स्वागत कर स्वामी विवेकानंद का प्रतीक चिन्ह भेट स्वरूप दी गई।


 डॉ रेवड़ियां, दन्त चिकित्सक द्वारा दी जा रही सामग्री की उपयोगिता के बारे में बताया तो वही जिलाध्यक्ष दिलीप पवार द्वारा राशि एकत्रिकरण से अवगत करवाया की लॉक डाउन नियमो का पालन कर Zoom बैठक व ऑनलाइन पद्धति से राशि एकत्रित की गई, 150 लिपिकों द्वारा 251 से 11000 तक कि राशि दी गई, यह भी बताया कि इस अभियान में कुछ विशेष लिपिक भी रहे, जयेंद्र तंवर, महाविद्यालय जोबट, संजय तोमर,कलेक्टर कार्यालय, वंदना रोधले, तहसील चंद्रशेखर आजाद नगर, विनय भोगे, जल संसाधन, वीरेंद्रकुमार वन विभाग यह लिपिकों ने अपनी राशि के साथ अन्य लिपिकों को प्रेरित कर अपने खाते से राशि जमा कर अभियान को गति दी, साथ ही पंवार ने यह भी कहा कि पूरे मध्यप्रदेश में पहला कर्मचारी संग़ठन है, जिसने स्वेच्छिक अनुदान एकत्रित किया है। व कलेक्टर महोदया को यह भी बताया कि आलीराजपुर जिला बना है तब से लेकर आज तक ICU वार्ड निर्मित नही हुवा है, जिसकी पहल आज लिपिक परिवार कर रहा है ओर अनुरोध भी किया है कि ICU सामग्री का उपयोग यथाशीघ्र हो जिससे आमजन जो लाभ मिल सके। इस पर कलेक्टर महोदया ने हर्ष व्यक्त करते हुवे कहा कि कोरोना काल के तीन माह में आज मुझे बहुत ज्यादा खुशी हुई, लिपिक परिवार की इस प्रकार की सोच निश्चित ही अन्यो के लिए प्रेरणा का कार्य करेगी। मैं ह्रदय से जिलाध्यक्ष व लिपिक परिवार को धन्यवाद देती हूं। साथ ही दी गई सामग्री का उपयोग शीघ्र होने के लिये आश्वस्त भी किया, इस बात से भी अवगत करवाया कि जिला अस्पताल को शीघ्र ही 10-10 बेड के ICU वार्ड की सौगात जल्द ही प्राप्त होगी।  


मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. प्रकाश ढोके व सिविल सर्जन डॉ. के.सी. गुप्ता ने हर्ष व्यक्त करते हुवे लिपिक परिवार को बहुत बहुत धन्यवाद दिया। ओर कहा कि ICU वार्ड की शुरुवात में लिपिक परिवार को हमेशा याद किया जाएगा। 


कलेक्टर महोदया के निर्देश पर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुवे सीमित दायरों में लिपिक उपस्तिथ हुवे, जिसमे- रमेश चन्द्र गेहलोद, जिग्नेश सिसोदिया,बिशिया जी, दीपक शर्मा, विक्रम अलावा, कमलेश कनेश, विशाल व अन्य साथी 


आयोजन का संचालन जयेंद्र तंवर द्वारा किया गया।