गौतमपुरा के ग्रामीण क्षेत्र में दी कोरोना ने दस्तक’, ’ग्राम कटकोदा में मिला गौतमपुरा क्षेत्र का पहला कोरोना मरीज’

गौतमपुरा। महानगरो से नगर और कस्बो में पहुंचे कोरोना वायरस ने अब ग्रामीण क्षेत्रो में भी दस्तक देना शुरू कर दी है। गौतमपुरा के क्षैत्र के गांव कटकोदा में रविवार 24 मई को कोरोना पॉजिटिव मरीज की पहचान हुई। उक्त मरीज की उम्र लगभग 84 वर्ष की है जो की सेवानिवृत्त शिक्षक है। गौरतलब हे की कोरोना माहमारी से अभी तक गौतमपुरा क्षैत्र पुरी तरह मुक्त था परंतु जेसे ही ग्राम कटकोदा के रणजीत गोड उम्र 84 वर्ष की कोरोना सक्रमीत होने की खबर मीली क्षैत्र मे दहशत का माहोल छा गया लोग चिन्तीत हो गए। ग्रामिणो ने बताया की 1 माह पहले रणजीत गोड के बेटे सत्यनारायण गोंड को हार्टअटेक आने से 4 दिन उन्हे इन्दोर के सुपर युनिक अस्पता मे भर्ती कीया गया था उसके बाद 11 मई को देपालपुर के माहवीर अस्पताल मे सामान्य इलाज करवाया था इसी बीच 14 मई को रणजीत गौड का बल्ड प्रेशर कम होने से तबीयत बगडने लगी और 16 मई को रणजीत गोड को गौतमपुरा के डॉक्टर आनंद कुमावत के यहा उप्चार के लिए लाया गया डॉ आंनन्द ने बल्ड प्रेशर चेक कर के रणजीत गौड को इन्दौर दिखाने की सलहा दी जिसके चलते परिजन उन्हें उपचार हेतु इंदौर के सेन्ट फ्रांसीस हॉस्पिटल लेकर गये थे। जंहा उनके उपचार के दौरान कोरोना के लक्षण दिखने से हॉस्पिटल द्वारा उनका कोरोना सेम्पल लिया गया था जिसकी रिपोर्ट आज सुबह आई, जिसमे वे कोरोना पॉजिटिव पाए गए। उनकी रिपोर्ट आते ही डॉक्टरो की टीम के साथ तहसीलदार बजरंग बाहादुर , नायब तहसीलदार जितेन्द्र वर्मा, प्रशीक्षु डीएसपी थाना प्रभारी कमलसिंह चौहान द्वारा ग्राम कटकोदा को सील कर जिस मोहल्ले मे पाजेटीव मरीज का निवास हे उस मोहल्ले को कन्टेन्मेन्ट कीया गया। प्रशिक्षु डीएसपी कमल सिंह चौहन नेे बताया की कटकोदा निवासी कटकोदा गाव को सील कर दिया गया हे वही परिवार के 12 सदस्यो को कोरंटाइन कर मोहल्ले के अन्य परिवार के 100 सदस्यो को भी कन्टेन्मेन्ट एरीये मे रखा गया है और सभी की स्केनीग की गई है । 


वही सबसे बडी बात सोसाइटी के सेकेट्री सत्यनारायण को अटेक आने के बाद से ही उनकी खैरियत जानने के लिए भी ग्रामीणजन और नाते रिश्तेदारो का उनके यंहा आना जाना लगा हुआ था। उक्त परिवार का ग्राम कटकोदा में अपना ही एक अवार यानी गली है जिसमे 100 सदस्य रहते है और सभी का एक दूसरे के यंहा आनाजाना लगा रहता है जो चिंता का विषय है। वही पाजेटिव मरीज रणजीत गौतमपुरा के डॉक्टर आनंद के यहाँ भी अपना उपचार कराने आया था इस लिए डॉक्टर आनंद को भी क़वारन्टीन किया गया हे पर डाक्टर ने तब से अब तक कितने ही मरीजो का इलाज कीया उनका अभी तक कोई पता नही। इधर डॉक्टर की टीम अब इस पाजेटीव मरीज के परिवार से जो जो व्यक्ति संपर्क में आए थे उनका चेकप कर रही है तो प्रशासन उक्त परिवार में कोरोना कैसे पहुंचा इसकी हिस्ट्री निकालने में जुटा है।