भारत के वास्तविक इतिहास से परिचय कराता है क्रांतिदूत चैनल

बात जब भी देश में इतिहास को लेकर चलती है तो अक्सर कई विद्वान यह कहते हुए सुने और पढ़े जा सकते हैं कि भारत के इतिहास लेखन में जबरदस्त गलतियां हुईं हैं या फिर जानबूझकर इतिहास को विकृत किया गया है।


बहुत सी घटनाओं पर अगर ध्यान  दिया जाए तो उन विद्वानों की बात सही भी लगती है। कुछ उदाहरण हैं जैसे एनसीईआरटी की किताबों में गुरु गोविंद सिंह और शिवाजी जैसे भारत माँ के महान का चित्रण एक लुटेरे के रूप में करना इतिहास लिखने वाले उन तथाकथित इतिहासकारों की विकृत मानसिकता का परिचय कराता है। इस बात से देश का एक बहुत बड़ा वर्ग परिचित भी है और इस पर चिंतित भी और समय-समय पर इस मामले को अलग-अलग फोरम पर उठा उठाया जाता रहा है। 


 किसी समस्या को उठाना और उसकी ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करना तो आसान है और अच्छी बात भी है पर सबसे अच्छा काम होता है कि किसी समस्या के बारे में बताने के साथ-साथ उस समस्या का समाधान भी देना। इतिहास लेखन में जो भी गड़बड़ियां अब तक इस देश में हुई हैं, उस समस्या को शिवपुरी निवासी श्री हरिहर निवास शर्मा जी ने ना सिर्फ उठाया बल्कि उसका समाधान भी दिया। उन्होंने इतिहास की सच्ची घटनाओं का पूरे देश भर से संकलन किया और उनको जन जन तक पहुंचाने के लिए एक यूट्यूब चैनल शुरू किया जिसका नाम है "क्रांतिदूत"।


इस चैनल में आप देखेंगे ऐसी ऐसी ऐतिहासिक घटनाएं जिनके बारे में हमारे आपके जैसे आम नागरिक को कुछ भी नहीं मालूम है। शर्मा जी की खासियत यह है की हर ऐतिहासिक घटना की जानकारी पूरे तथ्यों के साथ प्रस्तुत करते हैं और उनका प्रस्तुतीकरण भी बहुत ही निराला है।


शर्मा जी से बात हुई तो उन्होंने कहा कि उनके बेटे दिवाकर ही उनके इस काार्य के प्रचार- प्रसार काा काम देखते हैं और कोई बड़ा तामझाम नहीं है उनके पास इस काम के लिए।


जब हम किसी उनके चैनल को देखते हैं तो उसमें सबसे बड़ी बात यह है कि अगर किसी ऐतिहासिक घटना पर उनका वीडियो 17 मिनट का होगा तो मेरा दावा है कि उन 17 मिनट तक उस वीडियो को देखने वाला शायद पलक भी ना झपकाए। 


शर्मा जी ने बताया कि उन्होंने एक वेबसाइट "www.krantidoot.in" भी शुरू कर दी है जिस पर कोई भी इच्छुक व्यक्ति सदस्य बनकर उन सारी ऐतिहासिक घटनाओं की जानकारी ले सकता है जो वह लगातार प्रसारित करते रहते हैं। साथ ही उन्होंने हाल ही में अलग-अलग घटनाओं पर ई बुक बनाना भी शुरू कर दिया है और किसी की भी जिज्ञासा उनके पास पहुंचती है किसी घटना के संबंध में तो वे उसे उक्त मामले की ईबुक भेज देते हैं। 


जो भी हो पर शर्मा जी द्वारा किया जाने वाला यह कार्य कोई मामूली कार्य नहीं है बल्कि देश को इसकी बहुत ज्यादा जरूरत थी। और यही एक तरीका है जिससे लोगों को असलियत का पता चल सकेगा और सही इतिहास उन तक पहुंचे। 


 इस समय देश में जन जागरण का कार्य प्रखर वक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ,  यूट्यूब चैनल चलाने वाले नीरज अत्री और गौरव आर्य बखूबी कर रहे हैं और अगर हरिहर शर्मा जी के इस कार्य पर नजर डाली जाए तो उनका कार्य भी पुष्पेंद्र जी या गौरव आर्य और नीरज अत्री के कार्य से किसी भी स्थिति में कम नहीं है क्योंकि किसी भी देश के लोगों को अगर उनका सही इतिहास बता दिया जाए तो उनका जागरण स्वत: ही होने लगता है और उनको अपने पूर्वजों और अपनी संस्कृति पर गर्व होने लगता है।


ऐसे में हम सबको चाहिए की क्रांतिदूत यूट्यूब चैनल को अधिक से अधिक लोग सब्सक्राइब करें ताकि शर्मा जी की बात देश के हर घर तक पहुंचे।