20 टन वजनी पावर ट्रांसफार्मर उठाएगी, बिजली कंपनी की नई क्रेन, मप्रपक्षेविविकं के काम में तेजी आएगी

इंदौर। मप्रपक्षेविविकं के प्रबंध निदेशक श्री विकास नरवाल के निर्देशन में क्षेत्रीय भंडार गृहों को तकनीकी रूप से सक्षमता प्रदान की जा रही है। इसी क्रम में इंदौर के भंडार गृह में पावर ट्रांसफार्मर चढ़ाने, उतारने के लिए नई क्रेन व्यवस्था का शुभारंभ शनिवार को किया गया। इंदौर में नई क्रेन 20 टन वजन का पावर ट्रांसफार्मर उठा सकती है। इससे ग्रिड पर पावर ट्रांसफार्मर ले जाने के काम में तेजी आएगी। इस क्रेन की कीमत 35 लाख है। अब तक बिजली कंपनी यह काम किराए की क्रेन से कराती रही हैं, इसमें वर्ष में लाखों रूपए किराया चुकाना होता था। साथ ही किराए की क्रेन का इंतजार भी करना होता था। इंदौर के पोलोग्राउंड स्थित भंडार गृह में नई क्रेन के शुभारंभ अवसर पर अधीक्षण यंत्री भंडार श्री एनसी गुप्ता, कार्यपालन यंत्री सुश्री कीर्ति सिंह विशेष रूप से मौजूद थे। कार्यपालन यंत्री भंडार श्री आशीष सराफ ने बताया कि अन्य पांच भंडारगृह धार, बड़वाह, रतलाम, उज्जैन, मंदसौर में भी 28 लाख कीमत वाली क्रेन लगाई जा रही हैं, जो 15 टन वजन के पावर ट्रांसफार्मर उठाने, उतारने का काम करेगी। सभी स्थानों की क्रेन के लिए कंपनी ने करीब पौने दो करोड़ व्यय किए है।



 


 _@----@@@@@@@@@


 


        19 जनमित्र शिविरों में बिजली समस्याएं निराकृत
 इंदौर। आपकी सरकार आपके द्वार अभियान के तहत शहर में जनमित्र शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। फरवरी माह के दौरान बुधवार को अलग अलग वार्डों में शिविर के 19 आयोजन हुए। मप्रपक्षेविविकं के शहर अधीक्षण यंत्री श्री अशोक शर्मा ने बताया कि शिविरों में कार्यपालन यंत्री, सहायक यंत्री, कनिष्ठ यंत्री टीम समेत मौजूद रहकर समस्याएं सुनते है। फरवरी में शिविरों में बिजली संबंधी 50 समस्याएं, शिकायतें आई, इनका समाधान तय समय पर किया गया।


 @@@@@@@@@@


मप्रपक्षेविविकं के इंजीनियरों की बैठक 4 व 5 को


इंदौर। वित्तीय वर्ष के अंतिम माह मार्च में मप्रपक्षेविविकं राजस्व संग्रहण के लिए विशेष प्रयास करेगी। इसके लिए प्रबंध निदेशक श्री विकास नरवाल 4 मार्च को उज्जैन रीजन के इंजीनियरों की एवं 5 मार्च को इंदौर रीजन के इंजीनियरों की बैठक लेंगे। मप्रपक्षेविविकं के पोलोग्राउंड मुख्यालय के सभागार में सुबह 11.30 से प्रारंभ होने वाली बैठक में बिलिंग एफिशिएंसी, कलेक्शन, मीटराइजेशन, सहज भुगतान सेवा वाहनों के उपयोग, आटोमेटेड मीटर रीडिंग ट्रांसफार्मर फेल रेट घटाने, सुरक्षा आदि मुद्दों पर सीधी बात होगी।