मेदांता अस्पताल इंदौर की मरीज की मौत पर सफाई

मरीज चन्द्रशेखर सीरिया उम्र 20 वर्श निवासी रिंग रोड MR 9,पिछले 1 वर्श से अधिक समय से किडनी Failure से पीड़ित था, उसे डायलयसिस की ज़रूरत पड़ रही थी, परसों रात को 21/02/2020 लगभग 11:00 pm उसे अस्पताल लाया गया, प्रारंभिक जांच एवं सीटी स्कैन से पाया गया कि उसके मस्तिष्क के बैन स्टेम वाले हिस्से में bleeding हुई है, जो कि उसके बेहोशी का कारण है, यह सम्भाव्यता ब्लड प्रेशर के कंट्रोल मै ना रहने की वजह से हुआ होगा क्योंकि यहा पर उसका ब्लड प्रेशर 200 था, मरीज को 22/02 तारिक को रात को एक बजे Neuro ICU मै भर्ती किया गया, तथा वेंटिलेटर पर रखना पड़ा, Neurologist एवं Neurosurgeon के जांच के बाद यह स्पष्ट हो गया कि वह Brain डेड है वह उसे पुनः होश में लाना सम्भव नहीं है, 
यह सारी बातें मरीज़ के परिवार से की गई तथा उन्हें वास्तव स्थिति से अवगत कराया गया.
आज 23/02 को मरीज़ के पिता ने आगे इलाज जारी ना रखने की इक्षा जाहिर की मरीज़ के पिता ने  (स्वम हस्ताक्षर करके) LAMA (left against medical advice) की प्रक्रिया पूरी की, वह मरीज़ को करीब 1:00 PM बजे अपनी एम्बुलेंस मे अस्पताल से ले गए, अस्पताल से मरीज़ को कोई भी मत्यु प्रमाणपत्र नहीं दिया गया, क्योंकि मरीज़ को अस्पताल से जिवित अव्यवस्था मैं डॉक्टर की सलाह के विरुद्ध ले जाया गया था.
इसके उपरांत मरीज़ के परिजन मरीज़ की अस्पताल के बाहर मत्यु हो जाने के बाद अस्पताल में आके अस्पताल की सम्पत्ति को नुकसान पहुंचा तथा डॉक्टरों एवं नर्सों के साथ हाथापाई करने लगे उन्होंने एक गर्भवती नर्स को धक्का भी दिया, जिसके उपरांत अस्पताल को पुलिस की मदद लेनी पडी, माननीय स्वास्थ मंत्री श्री तुलसी सिलाव जी ने भी इस घटना का संज्ञान लिया तथा मरीज़ की मत्यु पर शोक व्यक्त किया तथा परिजन के अस्पताल के प्रति खराब बर्ताव पर चिंता जताई, अस्पताल प्रशासन ने भी मरीज़ की मत्यु पर शोक प्रकट किया एवं परिजनों के इस व्यवहार पर खेद जताया. तथा विजय नगर पुलिस थाने में इस घटना की शिकायत दर्ज करायी ताकी police आगे कार्यवाही कर सके