इन्दौर में निकला राष्ट्र सेविका समिति का विशाल पथ संचलन

राष्ट्र सेविका समिति द्वारा रविवार 13-11-2022 को पथ संचलन का आयोजन किया गया। समिति की स्थापना 1936 मे विजया दशमी के दिन वंदनीय लक्ष्मीबाई केलकर (उपाख्य मौसी जी) ने की।

उसी स्थापना दिवस के उपलक्ष्य मे यह शक्ति प्रदर्शन जो समाज मे सकारात्मकता का वातावरण एवं समरसता निर्माण करने वाला कार्यक्रम है।

संचलन के पूर्व समिति की बौद्धिक प्रमुख श्रीमति सीमा भिसे ने कहा कि महिलाओ मे प्राकृतिक रूप से स्नेह और सेवाभाव होता है। आज समाज और राष्ट्र को सशक्त होने के लिए इसी सेवाभाव और समरसता की आवश्यकता है। प्रत्येक के पास समय उतना ही है। परिवार को सम्हालते हुए समिति कार्य करना है। हम सोचेंगे की सुख सुविधाओ मे रहकर मै देश सेवा करूगी तो यह संभव नही है।

गुणवत्ता के आधार पर कदमताल चलने के साथ हमारे विचार और व्यवहार मे भी आना चाहिए। 

राष्ट्र सेविका समिति इंदौर द्वारा अपने स्थापना दिवस विजया दशमी के उपलक्ष्य मे रविवार शाम 4:00 बजे महावीरबाग एरोङ्रम रोङ से पथ संचलन आयोजित किया गया। इस अवसर पर बङी संख्या मे महिलाये पूर्ण गणवेश मे गुणवत्ता के साथ कदम से कदम मिलाकर संचलन कर रही थी।

समाजजनो द्वारा स्थान स्थान पर इस संचलन का स्वागत किया गया।

इस कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ प्रीती सिंह (विभागाध्यक्ष स्कूल ऑफ़ कॉमर्स देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर) तथा मुख्य अतिथि थीं सुरुची नाईक (निसगोपचार तज्ञ ) थी।

कार्यक्रम मे एकल गीत तान्या पहाड़े ने लिया एवं कार्यक्रम का संचालन ङाॅ जयश्री बंसल जी ने किया।

पथ संचलन महावीर बाग से बडा गणपती से हनुमान मंदिर चौराहा (टोरी कार्नर) ,हनुमान मंदिर(टोरिकॉर्नर ) से लोहार पट्टी,लोहार पट्टी से कैलाश मार्गअंतिम चौराहा,अंतिम चौराहा से बड़ा गणपति

बड़ा गणपति से महावीर बाग संचलन सम्पन्न हुआ।  






               आरती मिश्रा

                कार्यवाहिका

      राष्ट्र सेविका समिति

             इन्दौर विभाग


   संपर्क सूत्र 

        पूजा चौकसे शिवहरे

          9039822974

          9826754525

टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र