गौमाता को सिर्फ माता कहना काफी नहीं ,उसकी सेवा व सरंक्षण भी किया जाना जरूरी है- विधायक श्रीमती वर्मा

आशीष यादव, धार 

मुख्यमंत्री_जन_सेवा_अभियान के अंतर्गत जिले केशासकीय,अशासकीय गौशालाओं में गौसेवा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिला मुख्यालय पर यह कार्यक्रम लक्ष्मी गौशाला जेतपुरा में आयोजित किया गया। कार्यकम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा गौ-पूजन कर किया गया। इसके बाद गौशाला का अवलोकन भी किया। 

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक नीना वर्मा ने कहा कि यह जिले की बहुत पुरानी गौशाला है। गौमाता को सिर्फ माता कहना काफी नहीं, उसकी सेवा व सरंक्षण भी किया जाना जरूरी है। हमारे देश में गोवंश को माता का दर्जा दिया गया है। उन्होंने उपस्थित लोगों से कहा कि सभी जागरूक होकर ऐसे पशुपालक जो अपने पशुओं को सड़को पर छोड़ देते उन्हें समझाईश दे कि वे अपने पशुओं को ऐसे सड़को पर न छोडे, उनका अच्छे से पालन पोषण करें। इस कार्य में हम सभी को मिलकर लोगों में जनजाग्रति और जन चेतना लाना होगी तभी यह कार्य संभव हो पाएगा। उन्होंने कहा कि शासन लगातार प्रयास कर कृषकों को प्राकृतिक खेती करने के लिए बढावा दे रहा है। इसका मुख्य उद्देष्य है कि इससे कृषक में गौधन को बढावा मिले। इससे हम अपनी पुरानी परम्परा और संस्कृति को अपना कर अपनी आने वाली पीढियों को सुरक्षित और स्वस्थ्य जीवन दे सकते है। 

कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने कहा कि इस गौशाला में बहुत अच्छे कार्य किए जा रहे है। उन्होंने कहा कि यहॉ उपस्थित सभी लोग अपने क्षेत्र में जाकर अपने क्षेत्र के ग्रामीणों को जागरूक करे कि वे अपने लंपी वायरस से ग्रसित या संदिग्ध पशुओं को आइसोलेट करके रखे । जिससे दूसरे पशुओं को यह रोग न हो। 

इस अवसर पर महा मंडलेश्वर डॉ नरसिंह दास,जिला अध्यक्ष अध्यक्ष श राजीव यादव, सीईओ जिला पंचायत के एल मीणा, सहित अन्य जनप्रतिनिधि व आमजन मौजूद रहे। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र