धार पीजी कॉलेज में दो संगठनों के बीच हुआ विवाद एक दूसरे पर लगाया मारपीट का आरोप, थाने में दोनों पक्षों पर हुआ मुकदमा दर्ज

आशीष यादव, धार 

धार के पीजी कॉलेज में दोपहर करीब 12:30 बजे क्लास के अंदर छात्र संगठन के कार्यक्रम की बात को लेकर छात्रों के दो अलग - अलग गुटों के संगठन में कहासुनी हो गई , जिसके बाद आदिवासी छात्र संगठन से जुड़े महेश डामोर ने एबीवीपी के पदाधिकारियों पर मारपीट का आरोप लगाया । इधर विवाद की सूचना के बाद छात्र संगठन के पदाधिकारी कॉलेज में एकत्रित हुए तथा घटना की सूचना जिला पंचायत सदस्य मुकाम सिंह अलावा को दी । कुछ ही देर में अलावा कॉलेज पहुंचे व सभी छात्रों को लेकर नौगांव थाने पर पहुंचे , जहां पर पुलिस अधिकारियों के समक्ष कॉलेज में हुए घटनाक्रम की जानकारी दी । जहां पर पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया है । दरअसल आजादी के अमृत महोत्सव के चलते पीजी कॉलेज में कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम हो रहे हैं , इस दौरान कॉलेज की बायोलॉजिकल क्लॉस में एबीवीपी के कार्यक्रम होने की जानकारी आदिवासी छात्र संगठन से जुड़े महेश डामोर को मिली , जिसके बारे में जानकारी लेने महेश क्लास रूम में पहुंचे तो अचानक विवाद शुरु हो गया । इसके बाद ही महेश डामोर ने मारपीट के आरोप लगाए है इधर विवाद के दौरान हो रही कहासुनी से लेकर हाथापाई के वीडियो छात्रों के दोनों संगठनों द्वारा बना लिए गए थे । जिसके बाद ही हंगामा बढ़ गया , इधर एबीवीपी के अनुसार उनका कार्यक्रम शांतिपूर्वक चल रहा था , बेवजह महेश डामोर ने आकर विवाद शुरु किया व छात्र नेता राहुल चावडा के साथ मारपीट की है । इधर आदिवासी छात्र संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष महेश डामोर का कहना हैं , कि कॉलेज भवन में एबीवीपी को कोई कार्यक्रम करने का अधिकार नहीं कॉलेज में सिर्फ पढ़ाई होना चाहिए ।


प्राचार्य कक्ष में दिया धरना , बाद में लिखा पत्र जिला पंचायत सदस्य मुकामसिंह अलावा अपने साथ छात्रों को लेकर पहले थाने पर पहुंचे , जहां पर पुलिस को विवाद की जानकारी दी । इधर आदिवासी छात्र संगठन का समर्थन करने के लिए एनएसयूआई के विकास सिंह पंवार व महेश मोड भी कॉलेज पहुंचे थे , नौगांव थाने पर महेश डामोर को प्रकरण दर्ज करवाने के लिए छोड़ने के बाद जिपं सदस्य मुकामसिंह छात्रों को लेकर दोपहर के समय कॉलेज पहुंचे , यहां पर कॉलेज प्रबंधन की ओर से एबीवीपी के नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर सभी प्राचार्य कक्ष में धरने पर बैठ गए । इस दौरान कॉलेज के प्राचार्य डॉ एमएस बघेल ने छात्रों से विवाद को लेकर जानकारी ली तथा मारपीट का वीडियो भी देखा , कॉलेज में हो रहे हंगामे की सूचना पर दोपहर के समय नौगांव पुलिस भी पहुंची । करीब पौन घंटे तक चले हंगामे के बाद अंत में प्राचार्य ने एक पत्र नौगांव पुलिस टीम को लिखा हैं , जिसमें बताया कि छात्रों के बीच में आपस में झगड़ा एवं मारपीट हो गई थी । प्रकरण को महाविद्यालय की अनुशासन समिति की ओर भी भेजा गया है ।


संगठन मंत्री ले रहे थे क्लास 


प्राचार्य कक्ष में आदिवासी छात्र संगठन सहित एनएसयूआई के छात्रों ने बताया कि किसी भी संगठन के छात्रों को कक्षा के अंदर संगठन का कार्य करने से रोका जाए एवं बाहरी एबीवीपी के छात्रों पर रोक लगाई जाए । कक्ष के अंदर एबीवीपी के छात्र संगठन मंत्री आशीष शर्मा क्लास लेकर कई छात्रों को संगठन के बारे में जानकारी दे रहे थे , जो कि गलत है । प्राचार्य को सौंपे आवेदन में आशीष शर्मा , राहुल चावडा , महेंद्र ठाकुर , शुभम सिसोदिया के खिलाफ कार्रवाई की मांग रखी गई हैं , इस दौरान छात्र नेताओं ने कार्रवाई नहीं होने पर हड़ताल करते हुए आंदोलन करने की चेतावनी भी दी है ।



इन नेताओं पर प्रकरण दर्ज 

नौगांव पुलिस ने इस पूरे घटनाक्रम को लेकर कुल दो प्रकरण दर्ज किए हैं , जिसमें पहला प्रकरण महेश डामोर की ओर से दर्ज किया गया । जिसमें बताया गया कि एबीवीपी का सदस्यता कार्यक्रम चल रहा था , आरोपियों ने सदस्य बनने की बात को लेकर मारपीट करते हुए हंगामा किया । मामले में पुलिस ने आकाश खिंची , महेंद्र ठाकुर , राहुल चावडा व शुभम सिसोदिया के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है । वहीं दूसरी रिपोर्ट राहुल चावडा ने बताया कि एबीवीपी का प्रोग्राम चल रहा था , तभी आरोपी आए व कार्यक्रम की परमिशन ली या नहीं । इस बात को लेकर हंगामा करते हुए मारपीट की हैं , पुलिस ने दूसरे पक्ष के महेश डामोर व महेश मोड के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है टीआई चंद्रभान सिंह चढ़ार के अनुसार दोनों पक्ष थाने पर आए थे , जहां पर वैधानिक कार्रवाई की गई है ।

टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र