राजा भोज स्वशासी महाविद्यालय में मंथन व्याख्यान माला का आयोजन किया गया

आशीष यादव, धार 

आजादी के 75 वर्षों से आज तक एक बड़े षड्यंत्र के तहत जनजाति के योद्धाओं के संघर्ष को हमसे छुपाया गया ,

जनजाति के गौरवशाली इतिहास और जनजाति योद्धाओं के संघर्ष और सभ्यता, संस्कृति और परंपराओं के बारे में जानकारी आवश्यक

आजादी के 75 वे वर्ष के अमृत उत्सव को साकार करते हुए जनजाति विकास मंच धार मध्यप्रदेश एवं जनजाति कार्य विभाग के सयुंक्त तत्वाधान में मंथन व्याख्यान माला का आयोजन राजाभोज स्वशासी महाविद्यालय धार के ऑडिटोरियम हॉल में किया गया । मंच पर श्री कैलाश अमलीयार प्रांत प्रमुख जनजाति कार्य भी उपस्थित थे। दो सत्रों में संपन्न हुए इस कार्यक्रम में जनजाति के गौरवशाली इतिहास और जनजाति योद्धाओं के संघर्ष और सभ्यता, संस्कृति और परंपराओं के बारे में विस्तार से चर्चा की गई।

पहले सत्र में जनजाति समाज गौरव वैभव सुरंगे ने वर्तमान में जनजाति समाज की रीति नीति पद्धति व जीवन शैली के गहन अध्ययन की आवश्यकता होने की बात कही । और साथ ही शिक्षित युवाओ से आह्वान किया कि वे भी आगे आ कर जनजाति समाज पर शोध करे ताकि पूरे विश्व के पर्यावरण को साथ ले कर आदर्श जीवन जीने की पद्धति का ज्ञान हो । हमे इतिहास की ओर चलने से पहले बात करना चाहिए, इतिहास क्यों जरूरी है, वह कभी इतिहास नहीं बना सकते जो अपना इतिहास नहीं जानते। राष्ट्रीय संदर्भ में इतिहास का विवरण स्वाभिमान होता है ।

द्वितीय सत्र में शहीद समरसता मिशन के संयोजक मोहन नारायण गिरी ने अपने ओजस्वी प्रबोधन की शुरुआत भारत माता की जय ओर बिरसा मुंडा की जय के साथ कि ।ओर आगे कहा कि शक हूण अरबी मुस्लिम और अंत मे ईसाई मिशनरी आक्रांताओं के साथ छेडे गए स्वतंत्रता दिलाने वाले जनजातिय क्रान्तियो के इतिहास पर गहन उद्बोधन दिया । धार जिले की 3 जनजाति विरासतों की जानकारी भी दी । उन्होंने जनजाति समाज को टाइगर की उपाधि दी और कहा जब तक टाइगर जिंदा है समाज को तोड़ने वाले लोग कभी भी सफल नही हो सकते। उन्होंने रानी दुर्गावती, राणा पूँजा भील, बाबा तिलका माँझी के जीवन संघर्ष की गाथाओं को विस्तृत रूप से बताया। उन्होंने कहा कि 75 वर्षों से आज तक एक बड़े षड्यंत्र के तहत जनजाति योद्धाओं के संघर्ष को हमसे छुपाया है आज का यह आयोजन ज्ञात अज्ञात हमारे पूर्वजों के बारे में एक सार्थक प्रयास है आने वाली पीढ़ी इनके इतिहास को जाने और शोध करके इसे जन-जन तक पहुंचाएं क्योंकि हम अब स्वर्णिम इतिहास का आचयन करने जा रहे हैं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में जनजाति समाज बंधु मौजूद रहे। प्रारंभ में अतिथि परिचय दिलीप मकवाना द्वारा दिया गया। कार्यक्रम का संचालन गजराज निनामा ने किया और आभार अरविंद डावर ने माना । उक्त जानकारी स्वराज अमृत महोत्सव समिति के मीडिया प्रभारी ज्ञानेंद्र त्रिपाठी ने दी। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
स्टेयरिंग फेल होने से घर में घुसी पिकअप, ड्राइवर की मौके पर ही मौत तीन घायल, - घटना के बाद ग्रामीणों ने स्टेट हाईवे पर लगाया जाम, वाहनों की लंबी कतार
चित्र
कोठीदा का मिट्टी वाला बांध हुआ लिकेज, एक दर्जन से अधीक ग्राम के लोग घबराए
चित्र
तबाही का मंझर आंखों के सामने~~~ 2 दिन से चल रहा डेम में लीकेज सही करने का काम, बाँध को खाली करने की जा खुदाई में आ रही दिक्‍कत दोनों ओर बनाई जा रही चेनल
चित्र
दोषियों पर कारवाई क्यो नही:, वीडियो से मिली डेम की लगी जानकारी जिम्मेदार अधिकारी को पानी रिसने की नही थी जानकारी, जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने उद्योग मंत्री दत्तीगांव के साथ किया मुआयना
चित्र
बाग में पटवारी की मिलीभगत से दूसरे जमीन घोटाले में भी केस दर्ज
चित्र