127 साल पुराना इतिहास पुलिस ने खगाला दस्तावेज जुटाए अब करेगे चालान पेश, 250 करोड़ की सेंटे टेरेसा जमीन का

आशीष यादव, धार 

धार में शासकीय जमीन के क्रय - विक्रय करने के मामले में पुलिस जल्द ही चालान पेश करने वाली हैं । इसे लेकर तैयारी अंतिम चरणों में है । दस्तावेजी साक्ष्य जुटाने में पुलिस का पूरा फोकस है । धार के इतिहास में पहली मर्तबा किसी प्रकरण में दस्तावेजों के आधार पर आरोपियों का सजा होगी । प्रकरण में कोर्ट के समक्ष 4 हजार से अधिक पन्नों का चालान पेश किया जाएगा । इसमें करीब 34 आरोपियों के बारे में विस्तृत जानकारी होगी । साथ ही आरोपियों ने किस प्रकार जमीन को स्वयं का बताकर अलग - अलग लोगों को प्लॉट बेचने जैसे महत्वपूर्ण साक्ष्य भी होंगे । एसपी आदित्य प्रताप सिंह द्वारा गठित एसआईटी टीम चालान को पूरा करने में लगी हुई है । इसे पेश करने के साथ ही 4 नए आरोपियों के खिलाफ भी पुलिस कार्रवाई करेगी । दरअसल मगजपुरा क्षेत्र में सर्वे क्रमांक 29 की 3.074 हेक्टेयर जमीन जनकल्याण के लिए दी गई थी , जिसे आरोपी सुधीर दास व सुधीर जैन ने अपने साथियों के साथ मिलकर उक्त भूमि को बेच दिया था । मामले में शिकायत के बाद पुलिस द्वारा संज्ञान लेते हुए 28 नवंबर 2021 को प्रकरण दर्ज किया गया । जिसमें 26 नामजद आरोपी सहित एक संस्था को आरोपी बनाया था । जांच के दौरान पुलिस अब तक इस मामले में 32 आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है ।

इन आरोपियों को गिरफ्तारी के बाद हाईकोर्ट से राहत मिली व सभी आरोपी जेल से बाहर आ चुके है । हालांकि आरोपियों को जमानत के दौरान कोर्ट द्वारा आदेशित किया गया था कि प्रकरण के साक्ष्य सहित केस को प्रभावित नहीं करें व पुलिस को समय - समय पर जांच के लिए सहयोग करें । लेकिन अब पुलिस मुख्य आरोपियों की जमानत आवेदन निरस्त करने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची , जहां पर खारिज करने का आवेदन स्वीकार कर लिया गया और आरोपियों को नोटिस जारी करके जवाब तलब किया गया है । इस जमीन की कुल कीमत करीब 250 करोड़ रुपए है 


127 साल का इतिहास खंगाला 

आजादी के पहले धार महाराज ने सेंट टेरेसा कंपाउंड व ने मिशन अस्पताल की जमीन डॉक्टर मिस वोहरा को सन 1895 में दी थी । इस दौरान डॉक्टर वोहरा को महिलाओं के बेहतर उपचार के लिए जमीन दी गई । जिसमें अस्पताल संचालन के साथ ही प्रशासक बनाया गया था , लेकिन बाद में आरोपी सुधीर दास के पिता सन 1972 में धार आए थे । इसके बाद आरोपी सुधीर ने उक्त जमीन को अपनी पैतृक जमीन बताकर क्रय करना शुरू किया । जबकि सबसे पहले प्रशासक रही डॉक्टर वोहरा से इनका कोई संबंध ही नहीं था । ऐसे में एसआईटी टीम ने 127 साल का पूरा रिकॉर्ड ही खंगाल लिया , जिसे भी चालान के साथ पेश किया जा रहा है । इस दौरान पुलिस टीम ने गूगल मैप के माध्यम से पुराने फोटो निकाले हैं , जिसमें जमीन की यथास्थिति को दर्शाया गया है 


83 के आदेश का इंतजार 

इस प्रकरण में शामिल आरोपी सुधीर जैन व पत्नी आयुषी जैन पिछले आठ माह से फरार चल रहे है । इनाम की घोषणाओं के साथ संपत्तियों की कुर्की को लेकर पुलिस की कार्रवाई जारी है । जिसमें धारा 83 के तहत चल - अचल संपत्ति को लेकर पुलिस ने कोर्ट में आवेदन किया था , इसमें दोनों पक्षों को कोर्ट ने सुन लिया है । अगर पुलिस के पक्ष में इस धारा का आदेश आता है तो कलेक्टर के माध्यम से सभी संपत्ति कुर्क करेगी , जिसके चलते आरोपी पक्ष कोई भी संपत्ति अब बेच नहीं पाएगा । अगले सप्ताह में गुरुवार को कोर्ट इस धारा की कार्रवाई को लेकर आदेश देगी , जिसे भी पुलिस के चालान में आधार बनाया जाएगा । टीआई समीर पाटीदार के अनुसार धारा 83 को लेकर जल्द ही आदेश आने वाला हैं , एसआईटी टीम चालान पेश करने की तैयारी कर रही है । दस्तावेजी साक्ष्यों में 127 साल का पूरा रिकॉर्ड पुलिस को मिल चुका है , जिसमें स्पष्ट है कि जमीन शासकीय होकर आरोपियों की नहीं है । पुलिस की कार्रवाई अभी जारी है । 



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र