पीआईबी, भोपाल द्वारा धार जिला मुख्यालय पर मीडिया कार्यशाला वार्तालाप का आयोजन किया गया

आशीष यादव, धार

सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने से जमीनी स्तर के लोगों को फायदा पहुंचता हैः श्री छतरसिंह दरबार, सासंद

सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाना सरकार की तारीफ नहीं है बल्कि इसके द्वारा जमीनी स्तर के लोगों को लाभ मिलता है। इससे सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ नीचे तक पहुंचता है। यह बात धार-महू संसदीय क्षेत्र के सांसद छतरसिंह दरबार ने पीआईबी, भोपाल द्वारा धार जिला मुख्यालय पर आयोजित मीडिया कार्यशाला 'वार्तालाप' को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि मीडियाकर्मियों को भरण-पोषण के साधन का कानूनी अधिकार भी होना चाहिए।

मीडिया कार्यशाला को संबोधित करते हुए धार जिले के कलेक्टर डॉ. पंकज जैन ने कहा कि मीडियाकर्मी सरकार और आम आदमी के बीच एक पुल की तरह काम करते हैं और सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को आम जनता तक पहुंचाते हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में मीडिया का काफी विस्तार हुआ है, ऐसे में मीडियाकर्मियों को एक सकारात्मक एप्रोच के साथ काम करना चाहिए। डॉ. जैन ने कहा कि कोई भी समाचार प्रकाशित करने से पहले उसका डबल वेरीफिकेशन जरूरी है और समाचारों में दूसरे पक्ष की राय को भी तरजीह देनी चाहिए।

धार जिले के पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह ने कहा कि मीडियाकर्मियों में सेंस ऑफ सिक्युरिटी लाने के लिए मीडिया के सभी सेक्टर्स और पक्षों को शामिल करते हुए एक अखिल भारतीय मीडिया नीति बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मीडियाकर्मियों की कार्यस्थिति को बेहतर बनाने के लिए उनमें सेंस ऑफ प्राइड को विकसित करना जरूरी है।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए पीआईबी, भोपाल के अपर महानिदेशक प्रशांत पाठराबे ने कहा कि वार्तालाप का उद्देश्य एक सार्थक संवाद स्थापित करना है। उन्होंने पीआईबी की भूमिका और कार्यों पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने मीडिया से संबंधित कानूनों के बारे में भी मीडियाकर्मियों को बताया। साथ ही सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती संस्थानों के लिए दिशा निर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम 2021 के बारे में भी पत्रकारों को विस्तार से बताया।

कृषि विज्ञान केंद्र धार के वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक जी. एस. गाठिये ने कृषि विकास में ड्रोन का महत्व पर प्रकाश डाला और कहा कि कृषि के विकास में ड्रोन का इस्तेमाल मील का पत्थर साबित होगा। साथ ही उन्होंने पत्रकारों से कृषि के क्षेत्र में आई रही नई तकनीकों से भी आम जनता को सरल भाषा में रूबरू कराने का आग्रह किया। 'शिक्षा के क्षेत्र में NEP एवं डिजिटल विश्वविद्यालय का महत्व' विषय पर डॉ. मनोहर दास सोमानी, प्रोफेसर, वाणिज्य विभाग, उच्च शिक्षा विभाग ने विस्तार से प्रकाश डाला और इसके विविध आयामों को एक पीपीटी के माध्यम से पत्रकारों को अवगत कराया।

आरओबी, भोपाल के सहायक निदेशक शारिक नूर ने सोशल मीडिया के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला और पत्रकार कल्याण योजना के बारे में पत्रकारों को बारीकी से बताया। कार्यशाला का संचालन पीआईबी, भोपाल के मीडिया एवं संचार अधिकारी प्रेम गुप्ता ने किया। कार्यशाला में वरिष्ठ पत्रकार श्री सुनील सचान ने 'बदलते दौर में पत्रकारों की चुनौतियां' विषय पर अपना पक्ष रखा। कार्यशाला में विशेषज्ञ वक्ताओं पत्रकारों की जिज्ञासाओं का भी समाधान किया। कार्यशाला में धार जिला के बहुत सारे पत्रकारों ने हिस्सा लिया। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र