चीन देश के वुहान में कोरोना के दूसरे अध्याय का फिर से दस्तक देना भारत के लिए भी है चिंता का विषय है


 आपको मालूम होगा कि जिस चीन के वुहान शहर से कोरोना का वायरस पूरी दुनिया में फैला। उस चीन ने 25 मार्च को ही घोषणा कर दी थी कि उसने कोरोना पर विजय प्राप्त कर ली है और उसी तारीख से अपने यहां का लाँकडाउन हटा लिया था।


पर आश्चर्य की बात यह है कि 31 मार्च से एक नए तरह का कोरोना उसी इलाके में फिर से देखने को मिल रहा है जिसे एसिंप्टोमेटिक यानी जिस के लक्षण नहीं दिखते हैं ऐसा  कोरोना, वहां पर लगातार दिख रहा है और बड़ी संख्या में मरीज पाए जा रहे हैं।


इन मरीजों की खासियत यह होती है कि इनको देखने पर यह इनके पास जाने पर किसी को बीमारी के कोई लक्षण नहीं दिखते हैं पर ये कैरियर के रूप में काम करते हैं।


इसका मतलब यह हुआ कि ऐसे लोग खुद भले ही उस बीमारी से कोई नुकसान ना उठाएं पर नए लोगों को संक्रमित कर सकते हैं। यह और ज्यादा खतरनाक है।


इस विषय पर जियान न्यूज़ ने सामाजिक कार्यकर्ता सचिन महेश्वरी से बात की क्योंकि उन्होंने इस विषय पर काफी गंभीर अध्ययन करके हमारी ही यूट्यूब चैनल मालवा मिरर से अपने विचार साझा किए थे।


वीडियो में आने वाले दिनों में हमें किन-किन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा और उनके क्या कारण है और किस तरह से उनसे बचा जा सकता है,  इन विषयों पर प्रकाश डाला गया है।