सिंधिया के इस्तीफे के बाद इस्तीफों की झड़ी, टंडन ने भी भेजा अपना इस्तीफा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस्तीफा देते ही पूरे प्रदेश में कांग्रेस की राजनीति गरमा गई है और एक नए मोड़ पर आ गई है।


कुछ नेता जो सिंधिया के समर्थक थे, वह तो कांग्रेस से इस्तीफा देने का मन बना ही रहे हैं पर बहुत से ऐसे नेता भी हैं जिन्होंने पूरे 15 साल विपक्ष में रहने के बाद भी कांग्रेस का साथ नहीं छोड़ा और डटकर हर मौके पर, हर मोर्चे पर भाजपा का और सरकार का मुकाबला किया। पर सरकार बनते ही कुछ लोगों ने पूरे तंत्र पर कब्जा कर लिया और उन कार्यकर्ताओं को दरकिनार कर दिया गया। ऐसा ही दर्द पूर्व शहर कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद टंडन ने भी अपने पत्र में लिखा है जो उन्होंने सोनिया गांधी को भेजा है। टंडन ने भी इस दर्द के साथ अपना इस्तीफा दे दिया है।



Popular posts
अम्बेडकर विश्वविद्यालय, महू में भक्तिमयी शबरी पर कार्यक्रम का मंचन
चित्र
रामचरित्र मानस पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का हुआ आंबेडकर विश्वविद्यालय में आयोजन, कई महान विभूतियों ने लिया भाग
चित्र
आंबेडकर विश्वविद्यालय, महू की "बाबू जगजीवन राम पीठ" के प्रोफेसर के रूप में डॉ शैलेंद्र मणि त्रिपाठी ने किया अपना कार्यभार ग्रहण
चित्र
औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर के युवा तरुणाई शुभम पाराशर का जन्म दिवस मनाया गया धूमधाम से
चित्र
अम्बेडकर विश्वविद्यालय का ‘नक्सल ऑपरेशन एंड लेसन्स’ विषय पर राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन
चित्र