होली कितना वैज्ञानिक त्यौहार है यह समझाया है डॉ अनुपम श्रीवास्तव ने

भारतीय त्यौहार वैज्ञानिक एवं एकता का संदेश देने वाले होते हैं। बहकावे में आकर इनसे दूरियां मत बढाइये। 


सामाजिक समरसता के त्यौहार होली को कुछ लोगों के कारण और कुछ ज्यादा समझदारों के कारण भंगेड़ी, निठ्ठलो  मस्ती के त्यौहार बोल के दूरी बना बना के आज समाज तो क्या हम अपने घरों में भी दूरी का शिकार हो गए।
गलत लोगों की मंशा पूरी हुई और हम अपने को समझदार समझ के कॉलर ऊँची कर घूम रहे। लेकिन यकीन मानिए आप अपने और परिवार के जीवन की वो बहुत बड़ी खुशी से भी वंचित होते जा रहे हैं जो सिर्फ मस्ती के इसी त्यौहार पर अनुभव की जा सकती है। 


जो सामाजिक एकता का परिचय ये त्यौहार देता है और कोई भी नही। जाने के साथ अनजाने लोगों के जीवन में भी रंग भरने वाले इस त्यौहार को मना के खुशी के चरम आनंद को पाएँ जो यकीन मानिए किसी और तरीके से नहीं मिल सकता। 


त्यौहार के समय की गणना और मनाने के तरीके बहुत ही वैज्ञानिक तरीके से सोचे हुए हैं उनके पीछे के असली मतलब को समझे बिना हम कुछ लोगों के छल का शिकार हो रहे हैं।
-----डॉ अनुपम श्रीवास्तव


 


टिप्पणियाँ
Popular posts
दिगठान में कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया
चित्र
आधुनिक दौर के पँचायत चुनाव~ समय के साथ बदलते दौर में बदलते चुनाव तरीके से प्रचार कर रहे गांवों में सरपंच प्रत्याशी~ ग्रामीण इलाकों में बदला प्रचार करने का तरीका हर रोज आ रहे नए नुस्खे
चित्र
डॉक्टर डे पर की लोकायुक्त ने महिला डॉक्टर के साथ बनाया नर्स को भी आरोपी बनाया आरोपी, डिलीवरी कराने के नाम पर मांगे थे 8 हजार रुपये
चित्र
जलदेवता को मनाने नगर में निकाली जिंदा मुर्दे की शव यात्रा
चित्र
धार में दूसरे चरण का मतदान हुए सम्पन्न , 12 सो हजार पुलिसकर्मी केंद्रों पर तैनात, मतदान केंद्र पर लंबी कतार~~ शांतिपूर्ण हुए मतदान 77 प्रतिशत मतदान 3 लाख 32 हजार से अधिक मतदाता ने डाले वोट
चित्र