राफेल काफी नहीं, स्वदेशी हथियारों पर हमारा फोकस: वायुसेना अध्यक्ष

 दिल्ली,“36 राफेल फाइटर जेट भारतीय वायुसेना की जरूरतें पूरी करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं. बढ़त लेने के लिए वक्त की जरूरत हर जगह स्वदेशी प्लेटफॉर्म्स पर फोकस करने की है.” ये कहना है भारतीय वायुसेना के प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया का.


वायुसेना प्रमुख ने कहा, “IAF की जरूरतों के लिए अकेले 36 राफेल समाधान नहीं है, लेकिन जब ये स्वदेशी एस्ट्रा मिसाइल के साथ इस्तेमाल होंगे, जब पूरे बेड़े में Su30 के साथ और मिग 29 जैसे अन्य प्लेटफॉर्म्स के साथ इस्तेमाल होंगे तो समग्र तौर पर फोर्स की ताकत बढ़ेगी और प्रदर्शन बेहतर होगा.” .


एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने कहा, “हम बहुत खुश होंगे अगर अगली भिड़ंत में हम देश में ही निर्मित हथियार और मिसाइल का इस्तेमाल करें. ये गेम चेंजर होगा.”


वायुसेना अध्यक्ष के मुताबिक मेटेओर मिसाइल से लैस राफेल को बेड़े में शामिल किए जाने से क्षमताएं बढ़ेंगी लेकिन और भी समाधानों की आवश्यकता है.


एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने कहा, “हम वायुसेना की जरूरतों को पूरा करने के लिए सिर्फ मेटेओर क्लास पर निर्भर नहीं रह सकते. ये अहम है कि राफेल पर इस क्षमता को अन्य प्लेटफार्म्स पर ऐसी क्षमताओं के साथ इस्तेमाल किया जाए. हम इस दिशा में कई कदम उठा रहे हैं.” वायुसेना अध्यक्ष ने कहा, “छह दशकों में देश स्वदेशी हथियार सिस्टम विकसित करने की दिशा में अधिक आगे नहीं बढ़ सका. इसके मायने हैं कि फोकस गलत दिशा में था. अब वक्त जरूरतों पर फोकस करने का है. अगर स्वदेशी संसाधनों के तौर पर हम हथियारों और टेक्नोलॉजी में बढ़त लें तो एयरफ्राफ्ट्स को और कहीं ज्यादा कारगर बनाया जा सकता है.”


वायुसेना अध्यक्ष शुक्रवार को ‘एयर पावर इन नो वार नो पीस सिनेरियो’ सेमिनार में बोल रहे थे. इस सेमिनार का आयोजन सेंटर फॉर एयर पावर स्टडीज ने किया. सेमिनार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने भी शिरकत की.


बालाकोट एयर स्ट्राइक के एक साल पूरा होने पर वायुसेना अध्यक्ष ने कहा कि उस कार्रवाई ने साफ तौर पर दिखाया कि पारम्परिक टकराव वाली सीमा के भीतर वायुसेना का इस्तेमाल निशाना साधने और उसके बावजूद तनाव नहीं बढ़ने देने के लिए किया जा सकता है. उन्होंने राजनयिक स्तर पर सरकार की ओर से तनाव घटाने की क्षमता का हवाला भी दिया.


वायुसेना अध्यक्ष के मुताबिक आतंकी शिविरों पर एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान का जवाब बुनियादी तौर तनाव को बढ़ाने वाला नहीं था और भिड़ंत वहीं खत्म हो गई. इस मिशन की कामयाबी से कई नए आयाम जुड़े.


बालाकोट एयरस्ट्राइक का हवाला देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “बालाकोट बताता है कि भारत अपने सबसे सटीक संसाधनों का इस्तेमाल कर निर्धारित लक्ष्य हासिल कर सकता है. इनोवेशन और चौंकाने वाला तत्व हमारी रणनीति का अहम हिस्सा है.”


टिप्पणियाँ
Popular posts
धार में आयोजित होगा देश का प्रतिष्ठित साहित्योत्सव नर्मदा साहित्य मंथन का द्वितीय सौपान भोजपर्व!
चित्र
स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अवसर पर समर्थ पार्क में निवासरत पूर्व सैनिकों का किया गया सम्मान
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
Workshop under STRIDE project for e- development of BRAUSS campus held
चित्र
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय संगोष्ठी में राष्ट्रीय संगोष्ठी में राष्ट्रीय संगोष्ठी
चित्र