केन्द्र सरकार ने मध्यप्रदेश के हिस्से की राशि में 14,233 करोड़ रुपए की कटौती की

*केन्द्र सरकार ने मध्यप्रदेश के हिस्से की राशि में 14,233 करोड़ रुपए की कटौती की*
--केन्द्रीय योजनाओं में भी राज्यों की हिस्सेदारी में 60 से 100 प्रतिशत की वृद्धि
--वित्त मंत्री तरुण भनोत ने पूर्व केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री पर गलत बयानी और गुमराह करने का आरोप लगाया


भोपाल। वित्त मंत्री तरुण भनोत ने कहा है कि केन्द्र सरकार ने पुनरीक्षित बजट अनुमान में मध्यप्रदेश को मिलने वाली राशि में 14,233 करोड़ रुपए की कटौती की है। वर्ष 2019 की फरवरी में जारी बजट अनुमान और वर्ष 2020 के पुनरीक्षित अनुमान के दोनों दस्तावेजों से यह स्पष्ट हो जाता है कि मध्यप्रदेश के हिस्से की राशि में भारी कटौती केन्द्र सरकार ने की है। श्री भनोत ने कहा कि यही नहीं केन्द्रीय योजनाओं में राज्यों की हिस्सेदारी यूपीए सरकार के समय 25 प्रतिशत थी जिसे वर्तमान एनडीए सरकार ने  बढ़ाकर 40 और कुछ योजनाओं में  50 प्रतिशत तक कर दिया था। इस प्रकार राज्य के अंशदान में  60 से 100 प्रतिशत तक की वृद्धि की गई।। इससे मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्य सरकार भी वित्तीय संकट का सामना कर रहे है। 


श्री भनोत ने कहा कि पूर्व केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री  जयंत सिन्हा इस मामले में गलत बयानी और गुमराह करने वाले बयान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्री सिन्हा अपनी ही सरकार के पिछले और इस वर्ष के बजट  अनुमान का अध्ययन कर लेते तो शायद वे यह असत्य कथन नहीं करते।


वित्त मंत्री ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार ने फरवरी 2019 में जारी बजट अनुमान में मध्यप्रदेश को 63,750.81 करोड़ राशि आवंटित की थी। वर्ष 2020 के फरवरी माह में पुनरीक्षित अनुमान में यह राशि घटाकर 49,517.61 करोड़ कर दी गई जोकि 14,233 करोड़ रुपए कम है। श्री भनोत ने कहा कि मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कभी भी ऐसी बात नहीं की जो तथ्यों पर आधारित न हो। वे राजनीतिक बयान-बाजी नहीं बल्कि मध्यप्रदेश के हितों के साथ निरंतर केन्द्र सरकार जो अन्याय कर रही है उस पर वे तथ्यों और जिम्मेदारी के साथ अपनी बात कह रहे है। 
वित्त मंत्री ने कहा केन्द्र में भाजपा नीत सरकार आने के बाद निरंतर राज्यों के साथ अन्याय हो रहा है। 2014 के पहले यूपीए सरकार के समय जब डॉ. मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे तब केन्द्र की विभिन्न योजनाओं में केन्द्र का अंश 75 प्रतिशत और राज्यों की 25 प्रतिशत की हिस्सेदारी होती थी लेकिन जबसे केन्द्र में मोदी सरकार आयी है तब से केन्द्रीय योजनाओं में राज्यों की हिस्सेदारी में 60 से 100 प्रतिशत की वृद्धि की गई है। उन्होंने कहा कि पिछले 50 वर्षों में केन्द्र सरकार से राज्यों को उनके हिस्से की मिलने वाली राशि सबसे कम आंकी गई है।


श्री भनोत ने कहा कि श्री सिन्हा जाने माने वित्तीय जानकार होने के साथ ही विद्वान भी है। उनसे अपेक्षा नहीं थीं कि वे बगैर अध्ययन और तथ्यों के आर्थिक मुद्दों पर गलत बयानी करें।


टिप्पणियाँ
Popular posts
धार में आयोजित होगा देश का प्रतिष्ठित साहित्योत्सव नर्मदा साहित्य मंथन का द्वितीय सौपान भोजपर्व!
चित्र
स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अवसर पर समर्थ पार्क में निवासरत पूर्व सैनिकों का किया गया सम्मान
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
Workshop under STRIDE project for e- development of BRAUSS campus held
चित्र
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय संगोष्ठी में राष्ट्रीय संगोष्ठी में राष्ट्रीय संगोष्ठी
चित्र