विकास ऐसा के शुभारंभ से पहले ही टपकने लगी छत कलेक्टर जैन हुए नाराज, 35 बैड के प्रसुता वार्ड का 84 लाख 50 हजार की लागत से हुआ है निर्माण

आशीष यादव, धार 

जिला अस्पताल परिसर स्थित ट्रामा सेंटर में पहली मंजिल पर प्रसुताओं के लिए बनाए गए 35 वार्डो का उद्घाटन करने पहुंचे कलेक्‍टर छत से टपकता पानी देखकर नाराज हो गए, कलेक्‍टर ने संबंधित को फटकार लगाते हुुए कहा कि, शुभारंभ से पहले ही आपकी छत टपक रही है तो यह आगे क्‍या चलेगी। इसके बाद प्रसुता वार्ड में एक्‍जास फैन नही होने से सीएमएचओं को तत्‍काल एक्‍जास फैन लगाने के निर्देश दिए। दरअसल धार जिला अस्‍पताल का 300 बेड का सबसे बड़ा अस्पताल अब छोटा पडऩे लगा है। मरीजों के लगातार बढ़ते लोड के कारण बेड तक की उपलब्धता नहीं रहती है। बेड नहीं मिलने की स्थिति में सबसे ज्यादा परेशानी प्रसूताओं को झेलना पड़ती है। इसकी वजह यह है कि मैटरनिटी वार्ड में कुल बेड की संख्या 65 ही है। जबकि रोजाना जिला अस्पताल में 20 से 25 महिलाएं भर्ती होती है। हर माह जिला अस्पताल के मैटरनिटी वार्ड में 750 महिलाओं के प्रसव होते है। ऐसे में बेड की कमी के कारण कई तरह की परेशानियां प्रसूताओं को झेलना पड़ती है।


ट्रामा सेंटर की पहली मंजील पर बनाए प्रसुता वार्ड

इस तरह की समस्याओं को कुछ हद तक कम करने के लिए जिला अस्पताल परिसर स्थित ट्रामा सेंटर में पहली मंजिल पर नए वार्ड बनाए गए है। मॉयलान कंपनी द्वारा सीएसआर फंड से इन नए वार्ड का निर्माण किया गया है। 84 लाख 50 हजार की लागत से इनका निर्माण हुआ है। यह वार्ड लगभग पूरा हो गया है। आज कलेक्‍टर पंकज जैन, सीएमएचओं श‍िरिष रघुवंशी सहित अस्‍पताल के अधिकारियों द्वारा इसका शुभारंभ किया


35 बेड बढऩे से मिलेगी सुविधा

इस नए वार्ड में तीन रूम बनाए गए है। इसमें 35 बेड तक लगाए जा सकेंगे। इसमें प्रसव के बाद महिलाओं को रखने के लिए सहुलियत मिलेगी। बताया जा रहा है कि दो सप्ताह में नए वार्ड का काम पूरा हो जाएगा। इसके बाद इसके हैंडओवर की प्रक्रिया शुरू होगी। अस्पताल प्रबंधन इसे पीएनसी वार्ड के रूप में अपडेट करने की प्लानिंग कर रहा है।


प्रसव का आंकड़ा सबसे बड़ा

जिला अस्पताल में प्रसव का आंकड़ा सबसे बड़ा है। जितने प्रसव अकेले जिला अस्पताल में होते है, उतने पूरे जिले के अस्पतालों में नहीं होते। अस्पताल में हर माह औसतन 750 से 800 प्रसव होते है। इसमें नार्मल डिलेवरी की संख्या सबसे ज्यादा रहती है।




टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र