धार में दूसरे चरण का मतदान हुए सम्पन्न , 12 सो हजार पुलिसकर्मी केंद्रों पर तैनात, मतदान केंद्र पर लंबी कतार~~ शांतिपूर्ण हुए मतदान 77 प्रतिशत मतदान 3 लाख 32 हजार से अधिक मतदाता ने डाले वोट

आशीष यादव, धार 

चुनाव के दूसरे चरण का मतदान शुरू हो चुका है। सुबह 7 बजे से मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई, जो जारी है। ग्राम सरकार को लेकर मतदाता घरों से निकलकर बूथ पर पहुंच। मतदान को लेकर ग्रामीणों में खासा उत्साह देखने को मिला है। महिला-पुरुष दोनों की ही मतदान केंद्रों पर कतार लग रही है। दूसरे चरण के तहत गंधवानी, धरमपुरी, उमरबन और मनावर में मतदान जारी है। कही जगह पंचायत चुनाव में कही इतंजाम में कमियां देखने को मिली है। दूसरे चरण के तहत 8 जिला पंचायत सदस्य सहित 85 जनपद सदस्य, 245 सरपंच व 3 हजार 657 पंच के लिए मतदान चल रहा है। चार ब्लॉक में 807 मतदान केंद्र बनाए गए है। कुल 4 लाख 32 हजार 17 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद की गई है। चारों ब्लॉक में 12 सो से अधिक पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। साथ ही फारेस्ट, रेवेन्यू और होमगार्ड के जवानों को भी तैनात किया गया है। हर बूथ पर दो सुरक्षा टीम मौजूद है। इतना ही नहीं मतदान के बाद किसी भी विवाद की स्थिति में मतदान दल को सुरक्षित निकालने के लिए हर ब्लॉक में रिजर्व फोर्स की भी तैनाती की गई है, जो महज कुछ वक्त में टीम को सुरक्षित निकालकर ब्लॉक मुख्यालय लेकर पहुंचेगी।

चार पदों के लिए हुए मतदान 

कर्मचारियों को चुनाव को लेकर पूर्व में ही परीक्षण दिया जा चुका था । चुनाव को लेकर प्रत्येक मतदान केंद्र पर एक पीठासीन अधिकारी एवं 4 मतदान अधिकारियों की नियुक्ति की गई है । इसी तरह 807 मतदाता केन्द्रों पर एक कर्मचारी अतिरिक्त रुप से नियुक्त किया गया है । इस मर्तबा पंचायतों के आम निर्वाचन प्रत्यक्ष प्रणाली से हो रहे है , ऐसे में एक मतदाता चार पद हेतु मतदान कर रहा है जिसको लेकर मतदाताओं को थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ा वही जिसमें जिपं सदस्य के लिए गुलाबी , जनपद सदस्य के लिए पीला , सरपंच के लिए नीला व पंच के लिए सफेद मतपत्र थे । मतदान केंद्रों पर मतदान सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक होगा हुआ पंचायतो में मतपत्र से 8 साल बाद चुनाव हुए। ऐसे में कई युवाओं व नए मतदाताओं को यह भी नही पता है कि मतदान कैसे करना है क्योंकि अभी तक उन्होंने लोकसभा व विधानसभा चुनावों में मतदान ईवीएम मशीन का बटन दबाकर किया है । अब उन्हें पंचायत चुनाव में मतपत्र से एक बार नही , चार बार मतपत्र लेकर मतदान करा।


कही केन्दों पर चली देर रात मतगणना:

निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कार्यक्रम के अनुसार दूसरे चरण के तहत दोपहर 3 बजे तक होने वाले मतदान के बाद केंद्र के परिसर में आने वाले बचे लोगों के मतदान करवाया गया इसके बाद पंच , सरपंच को लेकर मतदान समाप्ति के तुरंत बाद मतगणना की गई , हालांकि मतगणना का सारणीकरण एवं निर्वाचन परिणाम की घोषणा 14 जुलाई को किए जाएंगे साथ ही जिला पंचायत सदस्यों के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई को एक साथ होगी । वही पार्टी के कार्यकर्ता मतदान केंद्रों पर हुए वोटिंग के आधार प्लस माईनस लगाकर अपने प्रत्याशी की जीत हार का पता कर लेते हैं


मतगणना के दौरान मोबाइल के उपयोग पर प्रतिबंध

उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती नेहा शिवहरे ने बताया कि मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नगरीय निकायों के आम निर्वाचन की मतगणना के दौरान मोबाइल के उपयोग पर प्रतिबंध संबंधी निर्देष जारी किए गए है। जारी निर्देषों के क्रम में मतगणना के दौरान मोबाइल फोन का उपयोग मतगणना कार्य में बाधक होता है तथा मतगणना कार्य की गोपनीयता भंग होने की संभावना बनी रहती है। आयोग द्वारा मतगणना भवन तथा परिसर में मोबाइल फोन का उपयोग पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है। निर्वाचन पर्यवेक्षण हेतु आयोग द्वारा नियुक्त प्रेक्षक उक्त प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे, ताकि वे आयोग से सतत सम्पर्क में बने रहें। निर्वाचन लडने वाले अभ्यर्थी तथा उसके निर्वाचन अभिकर्ता के मतगणना स्थल पर प्रवेश के दौरान जाँच की जाए। यदि कोई अभ्यर्थी या उसका निर्वाचन अभिकर्ता/गणन अभिकर्ता मतगणना स्थल पर मोबाइल लाता है तो उसे प्रवेश न दिया जाएगा। इस संबंध में सभी अभ्यर्थियों, मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों को पूर्व से अवगत भी करा दिया जायें। 




टिप्पणियाँ
Popular posts
स्टेयरिंग फेल होने से घर में घुसी पिकअप, ड्राइवर की मौके पर ही मौत तीन घायल, - घटना के बाद ग्रामीणों ने स्टेट हाईवे पर लगाया जाम, वाहनों की लंबी कतार
चित्र
कोठीदा का मिट्टी वाला बांध हुआ लिकेज, एक दर्जन से अधीक ग्राम के लोग घबराए
चित्र
तबाही का मंझर आंखों के सामने~~~ 2 दिन से चल रहा डेम में लीकेज सही करने का काम, बाँध को खाली करने की जा खुदाई में आ रही दिक्‍कत दोनों ओर बनाई जा रही चेनल
चित्र
दोषियों पर कारवाई क्यो नही:, वीडियो से मिली डेम की लगी जानकारी जिम्मेदार अधिकारी को पानी रिसने की नही थी जानकारी, जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने उद्योग मंत्री दत्तीगांव के साथ किया मुआयना
चित्र
बाग में पटवारी की मिलीभगत से दूसरे जमीन घोटाले में भी केस दर्ज
चित्र