भगोरिया हाट की शुरुआत 11 मार्च से, जिले में 20 से अधिक स्थानों पर होगा भगोरिया हाट का आयोजन

 आशीष यादव, धार

साप्ताहिक हाट भगोरिया मेले में होता है परिवर्तित आदिवासी समाज के लोगों में हाट सहित मेले को लेकर उत्साह 

होली के पूर्व गांव के साप्ताहिक हाट के दिन होता है आयोजन  

आदिवासी समाज के परंपरागत पर्व भगोरिया हाट की शुरुआत इस साल 11 मार्च से होगी, कोरोना संक्रमण के कम हुए असर के बाद प्रदेश सरकार ने तमाम पाबंदियां हटा दी है। ऐसे में भगोरिए के आयोजन को लेकर आदिवासी समाज के लोग हर्षों उल्लास के साथ मनाएंगे। इस आयोजन में शामिल होने के लिए गांव से बाहर नौकरी व पढ़ाई की तलाश में गए लोग भी पुन अवकाश लेकर गांव लौटते हैं, तथा 15 दिनों तक गांव में ही रहकर अलग-अलग क्षेत्रों के हाट पर्व में शामिल होते है। आदिवासी समाज इस हाट आयोजन को वर्षों से मनाते आ रहा हैं, समाज के युवा वर्ग में इस आयोजन को लेकर विशेष उत्साह रहता है। 

होली पर्व की विशेष खरीदारी

जयस से जुडे महेंद्र कन्नौज ने भगोरिया हाट को लेकर जानकारी देते हुए बताया कि होली पर्व को लेकर समाज के लोगों में विशेष उत्साह होता हैं, इसकी खरीदारी के लिए ही समाज के लोग गांव के साप्ताहिक हाट में पहुंचते है। इस दौरान साप्ताहिक हाट भगोरिया मेले में परिवर्तित हो जाता है। हाट बाजार से विशेष रूप से प्रत्येक घर में गुड, चने, खजूर, गुलाल, कांकड व माझम और शकरकंद, नारियल सहित अन्य सामान खरीदकर घर लेकर आते है। इसको लेकर 4 मार्च से 10 मार्च तक त्योहारिक हाट बाजार लगेंगे, जिसके बाद लोक पर्व भगोरिया की शुरुआत 11 मार्च से होगी। 

मेले में गूंजेंगी कुर्राटियां 

आदिवासी समाज के भगोरिया हाट के दौरान मेले में विशेष डोल लेकर पहुंचते है। श्री कन्नौज बताते हैं कि महुएं की लकड़ी से निर्मित इस विशेष डोल का वजन ही 15 किलो से अधिक होता है। हर कोई व्यक्ति इस डोल को नहीं उठा पाता हैं, इस विशेष डोल की आवाज पर समाज के लोग आदिवासी गीतों पर नृत्य करना शुरु करते है। इस दौरान समाज की विशेष परंपरा कुर्राटियाें का विशेष महत्व होता है। 

जनप्रतिनिधि भी होते हैं शामिल 

भगोरिया हाट में आदिवासी समाज के आयोजन के दौरान क्षेञ के जनप्रतिनिधि भी शामिल होते हैं, तथा डोल बजाने वाले व्यक्ति सहित टीम को प्रोत्साहन राशि देकर सम्मानित भी किया जाता है। जिले में 20 से अधिक स्थानों पर भगोरिया हाट का आयोजन किया जाता हैं, एक सप्ताह तक होने वाले आयोजन में एक साथ दो से अधिक स्थानों पर कई मर्तबा हाट भरता है। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र