ओंकारेश्वर से एक स्वर में ऊठी मांग--ज्योतिर्लिंग मंदिर 1 माह बाद खोलने की सर्वसम्मति से नगरवासियों ने की मांग

ओंकारेश्वर (निप्र) - तीर्थ नगरी ओंकारेश्वर में ज्योतिर्लिंग मंदिर नहीं खोले जाने के संबंध में ओंकारेश्वर में सर्वसम्मति से एक बैठक आहूत की गई। जिसमें नगर वासियों ने मांग की है कि कोरोनावायरस को देखते हुए ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर को  दर्शनार्थीओं के लिए खोले जाने के संबंध मे तिथि करीब एक माह और आगे बढ़ाई जाना चाहिए। 


 


सावन माह में करीब अन्य प्रदेशो से 3 से 4 लाख श्रद्धालु नगर मे प्रवेश करेगें। जिसमे से कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति यदी ओंकारेश्वर मे आ गया तो नगर को कोरोना की चपेट मे आने मे देर नही लगेगी जिसे देखते हुए नगरवासियों ने ओंकारेश्वर को तीर्थयात्रियों के लिए पुर्ण लाँकडाउन करने की मांग जिला प्रशासन से करी है। 


 


नगरवासियों का कहना है की सुरक्षा को ध्यान मे रखते हुए ओंकारेश्वर मंंदिर नही खोला जाये। 


 


मंदिर की पुजन व्यवस्था जो पिछले लाँकडाउन से चल रही है। उसी तरह संचालित हो। नगर मे किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश  नही दिया जाये।


 


 


नगर परिषद अध्यक्ष अंतर सिंह बारे ने भी बैठक के दौरान जिला प्रशासन से मांग करी है कि जिस तरह दादा दरबार मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए नही खोले जाने की तारीख आगे बडाई गई है उसी तरह ओंकारेश्वर मंदिर को खोलने की तिथि के आगे बढ़ाई जाए।


 


मांधाता विधायक प्रतिनिधि दिपक पटेल ने भी मंदिर को 1 माह बाद खोले जाने के संबंध मे नगरवासियों की मांग का समर्थन किया । 


 


बैठक में उपस्थित सभी नागरिकों ने जान है तो जहान है के नारे के सांथ बाहरी तिर्थयात्रियों पर प्रतिबन्ध बढाने पर सहमति जताई।


 


बैठक सभी जनप्रतिनिधि, पत्रकारगण, गणमान्यजन, संत, पंडे-पुजारी, नाविक आदी लोग उपस्थित थे।



Popular posts
आंबेडकर विश्वविद्यालय, महू की "बाबू जगजीवन राम पीठ" के प्रोफेसर के रूप में डॉ शैलेंद्र मणि त्रिपाठी ने किया अपना कार्यभार ग्रहण
चित्र
अम्बेडकर विश्वविद्यालय, महू में भक्तिमयी शबरी पर कार्यक्रम का मंचन
चित्र
रामचरित्र मानस पर आधारित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का हुआ आंबेडकर विश्वविद्यालय में आयोजन, कई महान विभूतियों ने लिया भाग
चित्र
शक्ति उपासना राष्ट्रीय कवि सम्मेलन के आयोजन को लेकर डा. दवे के नेतृत्व वाले दल ने लिया जायजा
चित्र
विश्व हिंदू परिषद जिला महू की मातृशक्ति-दुर्गा वाहिनी द्वारा शस्त्र पूजन, महाआरती का किया गया आयोजन
चित्र