महू में फिर शुरू हुआ जमीनों को लेकर गैंगवार का सिलसिला

शायद एक बार फिर से महू में जमीनों के खेल को लेकर गैंगवार की शुरुआत हो गई है। ऐसी ही एक घटना हाल ही में देखने में आई जब एक किसान परिवार अपनी जमीन पर बोनी करने गया तो गुंडों ने उस पर जाम जानलेवा हमला कर दिया। पर बावजूद इसके बहुत ही मामूली धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ और उसमें भी मुख्य आरोपी को का नाम f.i.r. में नहीं आया। 


जमीनों के खेल में अब तक महू में कई बड़े विवाद हो चुके हैं और इनमें से कुछ विवादों में तो बिल्कुल संगठित अपराधों की तर्ज पर अपराधियों ने अपने कारनामों को अंजाम दिया। इसी तरह के विवाद में महू के प्रतिष्ठित वकील योगेश गर्ग की हत्या भी हो चुकी है।


आज हम बात कर रहे हैं गायकवाड क्षेत्र की एक घटना की जो बुधवार को उस समय घटी जब एक कृषि भूमि के मालिक अपनी जमीन पर अपने रिश्तेदारों के साथ बोनी करने पहुंचे थे। थाने में दर्ज हुए अपराध क्रमांक 370 के अनुसार नवल पटेल ने नरेंद्र, मांगीलाल और मनीष के साथ मिलकर अचानक फरियादी किसान परिवार पर हमला कर दिया।


हालांकि हमले में श्याम पटेल, अमर पटेल और प्रमोद घायल हुए हैं पर प्रमोद को खतरनाक चोटें आई हैं जिस कारण से वह अभी भी अस्पताल में इलाज करवा रहा है।


उक्त मामले में ज्ञात रहे कि अनुविभागीय अधिकारी महू ने 19 मार्च को किशनगंज थाने को आदेश देकर उक्त फरियादियों को उनकी जमीन का कब्जा दिलवाया था। इस बारे में बात करते हुए घायल प्रमोद ने जियान न्यूज़ को बताया की लगभग 50 अपराधों में लिप्त रहा गायकवाड क्षेत्र का ही नवल पटेल इस हमले का मुख्य आरोपी था और लड़ाई की शुरुआत भी उसी ने की थी। पर फरियादियों ने पुलिस को उसका नाम बताया, बावजूद इसके पुलिस ने उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए उसके भाई, उसके पिता और अन्य रिश्तेदारों पर मुकदमा दर्ज कर कर अपनी अपनी ड्यूटी पूरी कर ली।


प्रमोद का कहना है कि इस घटना से पूरा परिवार भयंकर दहशत में है क्योंकि नवल पटेल ने उनको धमकी दी है कि अगर जमीन का कब्जा हम लोग नहीं छोड़ेंगे तो वह कभी भी हम में से किसी ना किसी को जान से मार सकता है। यूं तो जान से मारने का कहना बहुत छोटी सी बात है कोई भी किसी को भी कह देता है पर अगर नवल पटेल जैसा शातिर अपराधी जिस पर इतने सारे गंभीर मामलों में दर्ज हैं। अगर वह कह रहा है तो फरियादियों को सोचना ही पड़ रहा है। नवल पटेल के लिए हत्या हत्या के प्रयास जैसे आरोप अपराध कोई बड़ी बात नहीं है प्रशासन को चाहिए कि तुरंत नवल पटेल पर रासुका की कार्रवाई करें जिससे उसे सबक मिले और इन लोगों की जान बच सके।