लॉक डाउन में झोला छाप डॉक्टर  कर रहे थे इलाज, अधिकारियों ने निरिक्षण के दौरान की जब्ती की कार्यवाही

फर्जी डीग्री के साथ मिली जखीरे में एलोपैथिक दवाइयां


सी बी एम ओ ने दिए झोलाछाप के खिलाफ एफआईआर के आदेश
चंद्रशेखर आज़ाद नगर :- कोरोना वायरस के चलते ग्राम बरझर में फर्जी झोलाछाप डॉक्टर द्वारा  मरीजो का एलोपैथिक दवाइयों से इलाज किया जा रहा था । इस दौरान रविवार को  चंद्रशेखर आज़ाद नगर तहसीलदार यशपाल मुझाल्दा ,नायब तहसीलदार जितेंद्र सोलंकी ,चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर अमित शर्मा ने झोलाछाप डॉक्टर के क्लिनिक का आकस्मिक निरीक्षण किया जहां पर क्लिनिक पर पहले से मरीज इलाज के लिए बैठाकर झोलाछाप डॉक्टर एलोपैथिक दवाइयों से इलाज करते पाया गया । मोके पर तहसीलदार ,नायब तहसीलदार ,व चिकित्सा अधिकारी ने क्लिनिक के अंदर पहुचकर एलोपैथिक दवाइयों का जखीरा बरामद कर 10 वी पास बंगाल निहार विश्वास की डिग्री जब्त की जो प्रथम दृष्टिया ही फर्जी निकली । मोके पर फर्जी झोलाछाप निहार विश्वास के क्लिनिक का पंचनामा बनाकर चिकित्सा अधिकारी द्वारा एलोपैथिक दवाइयां सूची बनाकर व डिग्री जब्त  की गई व क्लिनिक सील किया।कार्यवाही के बाद चंद्रशेखर आज़ाद नगर  सी बी एमओ मंजुला चौहान भी मौके पर पहुँच गई व फर्जी झोलाछाप निहार विश्वास के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने के आदेश दिए।
सूत्रों ने फर्जी झोलाछाप डॉक्टर की कार्यवाही के बाद नाम नही छापने की शर्त पर बताया कि ये डॉक्टर चंद्रशेखर आज़ाद नगर विकासखण्ड में ऐसे कई झोलाछाप डॉक्टर है जिनके खिलाफ पहले भी चंद्रशेखर आज़ाद नगर के पूर्व एस डी एम राजेश मेहता ने झोलाछाप के क्लीनिकों पर छापामार  कार्यवाही कर एलोपैथिक दवाइयों का जखीरा पकड़ा था उस समय भी सी बी एमओ डॉ मंजुला चौहान की उपस्थिति में कार्यवाही हुई थी मगर इन फर्जी झोलाछाप छाप के खिलाफ एफआईआर  के बाद भी इनके क्लिनिक इन्ही के संरक्षण में ये फलफूल रहे है । 
फ़ोटो 01 आजादनगर:- ग्राम बरझर में झोलाछाप डॉक्टर क्लिनिक पर इलाज के लिए बैठे मरीज।
फ़ोटो 02  झोलाछाप के क्लिनिक का निरीक्षण करते तहसीलदार ,नायब तहसीलदार व डॉक्टर।
फ़ोटो 03 झोलाछाप के क्लिनिक के अंदर बिखरा एलोपैथिक दवाइयों का जखीरा।
फ़ोटो 04 मोके पर जब्त फर्जी डिग्रीव दवाइयों का पंचनामा।