आतंकी और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में फंसी थी गर्भवती महिला, सेना ने रेस्क्यू कर पहुंचाया हॉस्पिटल

श्रीनगर. कोरोना वायरस के कहर के बीच जम्मू-कश्मीर में एक बार फिर आतंकी गतिविधियां तेज हो गईं हैं। पिछले दिनों एक मुठभेड़ में जहां 9 आतंकी ढेर हुए थे वहीं, सेना के 5 जवान भी शहीद हुए थे। इन सब के बीच सोपोर में पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान एक गर्भवती महिला को रेस्क्यू कर उसे हॉस्पिटल पहुंचाया है। दरअसल, सोपोर के अमनपोरा में सुरक्षाबलों और आंतकियों के बीच मुठभेड़ चल रही थी। इसी दौरान पुलिसकर्मियों को गर्भवती महिला की मौजूदगी के बारे में पता चला। जिसके बाद सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ के बीच गर्भवती महिला और उसकी तीमारदार महिला, दोनों को अस्पताल पहुंचाया।


आतंकियों ने शुरू कर दी अंधाधुंध फायरिंग


सोपोर के अमनपोरा इलाके में आतंकवादियों के एक समूह के छिपे होने की सूचना मिलने के बाद स्थानीय पुलिस के एसओजी, राष्ट्रीय राइफल्स और सीआरपीएफ सहित सुरक्षाबलों ने मंगलवार देर शाम इलाके का तलाशी अभियान शुरू किया था। बुधवार सुबह सुरक्षाबलों के छिपे आतंकवादियों के करीब पहुंचने पर आतंकवादियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई।


दोनों पक्षों की ओर से गोलीबारी बंद हो गई है, लेकिन सुरक्षा बल सतर्कता के साथ छिपे हुए आतंकवादियों या उनके शवों का पता लगाने के लिए आगे बढ़ रहे हैं।


5 जवान हुए थे शहीद


जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में बीते रविवार को आतंकियों की घुसपैठ की एक बड़ी साजिश को नाकाम करते हुए सेना ने पांच आतंकियों को ढेर कर दिया था। कुपवाड़ा के केरन सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ करने वाले इन आतंकियों को एलओसी के पास के सुरक्षा बलों ने मार गिराया था। इस कार्रवाई में भारतीय सेना के पांच जवान भी शहीद हुए थे।