सीएए के खिलाफ दिल्ली में हिंसक प्रदर्शन, सिपाही की मौत, डीसीपी घायल


देश जहां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की खातिरदारी में व्यस्त हैं वहीं नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली के मौजपुर के बाद भजनपुरा में हिंसक झड़पें हुई हैं। हिंसा में दिल्ली पुलिस के सिपाही रतनलाल की मौत हो गई वहीं, शाहदरा के डीसीपी अमित शर्मा घायल हो गए। रतनलाल गोकुलपुरी थाने में तैनात थे। हालात बेकाबू होने पर घटनास्थल पर अर्द्धसैनिक बल को बुलाया गया है। 


रविवार की तरह की सोमवार को भी पत्थरबाजी की गई। सीएए के समर्थक और विरोधियों दोनों ने एक-दूसरे पर पथराव किया। यह घटना मौजपुर मेट्रो स्टेशन के नजदीक कबीर नगर इलाके का है। यह क्षेत्र मुस्लिम बहुल बताया जा रहा हैं। अधिकारियों के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने इलाके में लगी आग बुझाते समय दमकल की एक गाड़ी को भी नुकसान पहुंचाया। दिल्ली मेट्रो ने इलाके में तनाव के बीच जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए। जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार पिछले 24 घंटों से बंद हैं। संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने रविवार को सड़क अवरुद्ध कर दी थी जिसके बाद जाफराबाद में सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प शुरू हो गई थी। दिल्ली के कई अन्य इलाकों में भी ऐसे ही धरने शुरू हो गए हैं। 



इस घटना पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दुख भी जाहिर किया। वहीं, उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने कम से कम दो घरों में आग लगा दी, जिससे तनाव और बढ़ गया है। इन इलाकों में सोमवार को लगातार दूसरे दिन सीएए समर्थक और विरोधी समूहों के बीच झड़पें हुईं. प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस ने समूहों को शांत कराने के भी प्रयास किए।