करोड़ो रूपये की शासकीय चरनोई की भूमि को जिला कलेक्टर के आदेश पर नगर पालिका प्रशासन ने दबंग भाजपा पार्षद भू माफिया सोमानी के कब्जे को हटाया 

अलीराजपुर। प्रदेश के मुखिया कमलनाथ ने सभी प्रकार के माफियाओं के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने के लिए प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों को आदेश जारी किए थे। इसी तारतम्य में नागरिक जागरूक मंच के अध्यक्ष व पूर्व नगर पालिका उपाध्यक्ष विक्रम सेन ने करोड़ों रुपये की सरकारी चरनोई की जमीन पर दबंग भाजपा पार्षद ओछबलाल सोमानी ने अवैध रूप से अतिक्रमण कर कब्जा कर लिया था। जिसकी शिकायत नागरिक जागरूक मंच के अध्यक्ष विक्रम सेन ने की थी और न्याय की लड़ाई लड़ने का बीड़ा उठाया था। शिकायत के आधार पर जिला कलेक्टर ने मामले को संज्ञान में लेते हुए उच्च स्तरीय जांच कर एस डी एम को निर्देशित किया था और जाँच के उपरांत शिकायत सही पाई गई और सरकारी चरनोई की भूमि पर अतिक्रमण करने वाले दबंग भाजपा पार्षद सोमानी के कब्जे से शासकीय चरनोई की भूमि को मुक्त करने के लिए नगर पालिका के सीएमओ को आदेशित किया गया था। आदेश के पालन में नगर पालिका अधिकारी ने सरकारी चरनोई की भूमि को मुक्त करवाते हुए खम्भे लगाकर अपने कब्जे में ले लिया। 
        पिछले कई दिनों से सुर्खियों में चल रहे सरकारी भूमि पर अवैध रूप से कब्जा भाजपा पार्षद औच्छबलाल सोमानी ने किया हुआ था। नगर पालिका प्रशासन ने सरकारी भूमि के एक हिस्से से कब्जा हटा दिया। यहाँ पर पिल्लर बनाकर उस पर तार फेंसिंग की जा रही है। ज्ञात हो कि कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने इस संबंध में गत 17 जनवरी 2020 को अलीराजपुर एसडीएम विजय मण्डलोई को पत्र के माध्यम से आदेश जारी किये थे। जिसके पश्चात अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) विजय मण्डलोई ने नगर पालिका परिषद अलीराजपुर को 24 जनवरी 2020 को अपने पत्र क्रमांक/200/रीडर-2/2020 दि. 24.01.2020 के तहत अतिक्रमण हटाने के संबंध में निर्देशित किया था। जिस पर 6 फरवरी 2020 को मुख्य नगर पालिका अधिकारी संतोष चौहान ने अपने अमले को साथ में लेकर अलीराजपुर स्थित भूमि सर्वे क्रमांक 25 चरनोई भूमि रकबा 0.134 हैक्टेयर से अवैध कब्जे को हटाकर वहां पर खंभे लगा दिये है, जिन पर तार फेंसिंग की जाएगी। इस ऐतिहासिक प्रशासनिक कार्यवाही से, सरकारी भूमि की सरेआम तथा बेतहाशा लूट में इसी स्थान पर कब्जा की हुई सर्वे नम्बर 24 व सर्वे नम्बर 33 प्राकृतिक नदी की लगभग 0.16 हेक्टेयर भूमि को भी मुक्त कराए जाने का रास्ता साफ़ हो गया हैं।
           उल्लेखनीय हैं कि सोरवा नाका क्षेत्र में नदी के साथ ही ग्रीन बेल्ट व चरनोई की सरकारी जमीन पर फ़र्जी दस्तावेज तैयार कर पुलिया व रिटर्निंग वाल निर्माण के आदेश की आड़ में लगभग 10 करोड़ रूपये मूल्य की सरकारी भूमि पर किये गये अतिक्रमण के खिलाफ नागरिक जागरूक मंच के अध्यक्ष व पूर्व नपा उपाध्यक्ष विक्रम सेन ने 24 दिसंबर 19 को कलेक्टर सुरभि गुप्ता को आवेदन दिया था। जिसकी जाँच तत्कालीन एसडीएम संजीव गुप्ता ने राजस्व की टीम बना कर की थी, जाँच में शिकायत पूर्णतः सही पाई गई थी। तत्पश्चात कलेक्टर गुप्ता ने संबंधित अधिकारियों को निर्देषित कर सरकारी भूमि के सर्वे नम्बर 24, 25 व 33 सरकारी नदी की भूमि पर कब्जाई गई लगभग 31000 वर्गफीट से कब्जा हटाने हेतु विधिवत कार्यवाही करने के लिये आदेश जारी किया था। शिकायतकर्ता विक्रम सेन ने प्रशासन की इस कार्यवाही की शुरुआत पर संतोष व्यक्त करते हुए आभार व्यक्त किया हैं।