3000 का इनामी बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़ा विश्वास में लेकर जमीन के कागज हतिया कर कर 35 करोड़ का लोन हासिल किया

जमीन के दर्द को लेकर सरकार द्वारा चलाई गई मुहिम का असर देखने को मिल रहा है और लोगों को उम्मीद की किरणें सरकार की और से दिखाई दे रही है। आपने भू माफिया खनिज माफिया रेत माफिया का नाम तो सुना होगा लेकिन इन माफियाओं में एक नाम और जुड़ गया  ऋणी  माफिया ।
 करोड़ो रुपयों ऋण घोटाला करने वाला मुख्य आरोपी कुख्यात संजय द्विवेदी तो फरार है लेकिन उसका एक और साथी यशवंत दयाल निवासी बडौलीहौज हातोद पुलिस की गिरफ्त में आरोपी पर तीन हजार का इनाम घोषित था।  आरोपी यशवंत दयाल ने अपने साथी संजय द्विवेदी व 3 अन्य लोगो के साथ मिलकर षड्यंत्र पूर्वक करोड़ो रुपयों की धोखाधड़ी की। पुलिस के सामने मामला रोजड़ी गांव का सामने आया है जहां पति के दोस्त तथा जाति का व्यक्ति समझकर किसान इनके बहकावे में आ गए और इन लोगों ने इंदौर बैंक से लोन दिलाने के नाम पर जमीन की रजिस्ट्री मतदाता परिचय पत्र तथा फोटो कबाड़ लिए और उस पर करीब 35 करोड़ का लोन बैंक ऑफ इंडिया मुम्बई की शाखा से ले लिया किसान को तो तब मालूम पड़ा जब उनके यहां बैंक के लोग जमीन की जानकारी लेने पहुंचे। फरियादी उमाबाई पति राजेंद्र निवासी रोजड़ी द्वारा पुलिस अधीक्षक इंदौर को जमीन हथियाने तथा उस पर लोन लेने की शिकायत की थी