सूदखोरी का मकड़़जाल :, पीड़ित महिला ने 2 लाख ब्याज पर लिए, ब्याज सहित जमा भी करवाए 1.93 लाख….अब भी महिला पर 3.50 लाख बकाया निकाल रहे सूदखोर

 आशीष यादव, धार 

पीडि़त महिला ने गृहमंत्री से मांगी थी मदद, विभाग के हस्तक्षेप के बाद सूदखोरों पर दर्ज हुई FIR

सूदखोरी के मकडज़ाल में जब कोई फंसता है तो वह फंसता ही चला जाता है। मूल रकम से ज्यादा ब्याज और पैनल्टी के कारण पीडि़त का शोषण होता है। इससे निकलने के लिए लोगों को अपनी जमीन-घर तक बेचने पड़े है। इसके बाद भी कुछ दिन सख्ती के बाद सूदखोरी का धंधा फलने-फूलने लग जाता है।


सूदखोरी के मकडज़ाल से परेशान एक महिला की रिपोर्ट पर धार के सूदखोरों के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है। महिला को सूदखोर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने के लिए भोपाल तक दौड़ लगाना पड़ी, तब जाकर सूदखोरों पर एफआईआर दर्ज हुई है। महिला ने गृहमंत्री के नाम आवेनदन भोपाल के वल्लभ भवन स्थित गृह विभाग में दिया था। विभाग की तरफ से एफआईआर के निर्देश पर सरदारपुर पुलिस ने रविवार रात दो सूदखोरों के खिलाफ केस दर्ज किया है।


यह है मामला

पीडि़त महिला की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी जयंत पिता जगदीश भारय निवासी नौगांव व अजय उर्फ अज्जु बाबा निवासी नौगांव के खिलाफ धारा-384, 387, 34 भादवि व 3/4 मप्र ऋणियों का संरक्षण अधिनियम-1937 के तहत केस दर्ज किया गया है। इसमें बताया 13 सितंबर 2021 को आरोपियों से 2 लाख रुपए एक माह के लिए ब्याज पर लिए थे। इसके लिए महिला ने अपने घर आरोपियों के पास गिरवी रखा था। महिला ने आरोपियों को 1.63 लाख रुपए व ब्याज के 30 हजार रुपए दे दिए थे। इसके बाद भी आरोपियों द्वारा 3.50 लाख रुपए की मांग ब्याज सहित की जा रही है। रकम नहीं देने पर मकान की रजिस्ट्री नहीं दे रहे है। महिला के आवेदन पर पुलिस ने केस दर्ज किया है। फिलहाल आरोपी फरार है।


सरदारपुर थाने के एसआई भारतसिंह हटिला के अनुसार महिला ने आरोपियों जयंत व अजय बाबा के खिलाफ सूदखोरी को लेकर परेशान करने का आवेदन दिया था। इस पर पुलिस ने केस दर्ज किया है। साथ ही आरोपियों की तलाश की जा रही है।



टिप्पणियाँ
Popular posts
पति ने उठाया खौफनाक कदम: धारदार हथियार से पत्नी की हत्या कर किया सुसाइड, जांच में जुटी पुलिस
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
कर्मसत्ता किसी को नहीं छोड़ती चाहे राजा हो या रंक --प्रिय लक्ष्णा श्री जी म सा
चित्र
मॉम्स ने बताए सर्दी से बचाव के तरीके
चित्र
ठेकेदार की लापरवाही भुगत रहे ग्रमीण, यह कैसा विकास ? ग्रामीणों को हर रोज करनी पड़ती है नाली की साफ सफाई जिम्मेदार सोए कुम्भकर्ण की नींद पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं सड़क पर कीचड़ से निकलना तक मुश्किल गांव की सूरत बनाना तो दूर , जगह जगह पसरी गंदगी
चित्र