सबसे बड़ी गणेश प्रतिमा की स्थापना करेगा विजयश्री स्पोर्ट्स क्लब,11 टन बर्फ से बनेगा बाबा बर्फानी का धाम, पवित्र अमरनाथ धाम से लाए जल से तैयार की जाएगी बर्फानी धाम झांकी

आशीष यादव, धार

धार्मिक एवं सांस्कृतिक परंपराओं को जीवंत रखने के उद्देश्य से 37 वर्ष पूर्व विजयश्री स्पोर्ट्स क्लब की नींव रखी गई थी। पिछले चार दशक के लगभग समय से क्लब के सदस्यों ने श्री गणेश स्थापना अनंत चतुदर्शी चल समारोह सहित धार्मिक अनुष्ठानों एवं अन्य कार्यों के माध्यम से धार के लोगों को बेहतर से बेहतर देने का प्रयास किया है। विजयश्री द्वारा निर्मित झांकियों का पूरे धार को इंतजार रहता है। क्लब की झांकियों ने मप्र में प्रथम स्थान पाया है। हम हर वर्ष कुछ नया देने का प्रयास करते है। 37 वर्ष का सफर इतना आसान नहीं था। क्लब की शुरुआत से जुड़े सदस्यों ने समर्पित भाव से एक परिवार की तरह ना सिर्फ क्लब का बल्कि हमारे परिवार के प्रति भी स्नेह का भाव रखा है। क्लब परिवार के सभी सदस्यों के कारण हम लगातार अपनी उत्कृष्टता का प्रदर्शन कर रहे है और करते रहेंगे। क्लब परिवार के सदस्यों में दयाराम चौहान (दया मामा) ने 35 साल संपूर्ण निष्ठा और स्नेह के साथ अपनी जिम्मेदारियां निभाई है। इस वर्ष उन्हें विजयश्री का साफा सम्मान स्वरूप बांधा जाता है और इन्हें इस वर्ष का अध्यक्ष घोषित किया जाता है। यह बात पत्र परिषद् में बुधवार को विजयश्री स्पोर्ट्स क्लब के अध्यक्ष व पूर्व पार्षद सन्नी राठौर डॉन ने आगामी अनंत चतुदर्शी पर्व पर निकलने वाली झांकियों के आयोजन को लेकर जानकारी देने के दौरान कही।


अब तक की सबसे बड़ी गणेश प्रतिमा करेंगे स्थापित

पत्र परिषद् में श्री राठौर ने बताया कि कोरोना महामारी के बीते दो सालों में क्लब कोविड गाईड लाईन के पालनों के चलते श्री गणेश स्थापना व अनंत चतुदर्शी चल समारोह में शामिल नहीं हो पाया था। हमने क्रांति का जहाज, श्री सार्इं दरबार, जगन्नाथ पूरी मंदिर, बाहुबली का जहाज सहित कई तरह की लोक-लुभावना झांकियों का निर्माण किया है। इस वर्ष श्री गणेश स्थापना में किसी भी सेलीब्रिटी को नहीं बुलाया जा रहा है। क्लब ने तय किया है हम इस तरह के खर्चो की बजाय झांकियों एवं प्रतिमा स्थापना को और बेहतर बनाने के प्रयास करेंगे। इसके तहत 21 बॉय 31 की एक विशाल गणेश प्रतिमा स्थापित की जाएगी। हम लालबाग के राजा को धार में विराजित कर चुके थे। इस वर्ष की गणेश प्रतिमा अब तक की सबसे विशाल एवं सुंदर प्रतिमा होगी। इसके पूजन में हम अलग-अलग समुदाय और क्षेत्रों से जुड़े लोगों को आमंत्रित करेंगे। इसके पूर्व हम वृद्धाश्रम, अनाथ आश्रम सहित गणमान्यों को आरती में आमंत्रित करते आए है। इसके अलावा धार्मिक गतिविधियां भी संचालित होती रहेगी।


11 टन बर्फ से बनेगा बाबा बर्फानी का दरबार

पत्र परिषद् में श्री राठौर ने बताया कि इस वर्ष के अनंत चतुदर्शी चल समारोह में बाबा अमरनाथ की गुफा की प्रतिकृति को झांकी के रूप में प्रदर्शित किया जाएगा। करीब 11 टन बर्फ से अमरनाथ भगवान और गुफा का निर्माण किया जाएगा। झांकी निर्माण में उपयोग आने वाली बर्फ में पवित्र अमरनाथ गुफा से लाए गए जल को शामिल किया जाएगा। इसका मुख्य उद्देश्य यह है कि अमरनाथ तीर्थ दर्शन में जो लोग शामिल नहीं हो पाते हैं वे वहां के पवित्र जल से निर्मित इस बर्फानी बाबा के दरबार में दर्शन और जल अर्पण से धार्मिक पुण्य लाभ ले सकेंगे।


30 हजार लोगों में प्रसादी वितरण

श्री राठौर ने बताया कि बाबा बर्फानी के लिए कहा जाता है ‘भूखे को अन्ना और प्यासे को पानी’ हम इसी सूत्र का पालन करते हुए बाबा बर्फानी की झांकी के आगे प्रसादी वितरण कार्यक्रम भी चलाएंगे। आगे भंडारा उसके साथ बाबा बर्फानी रहेंगे। करीब 30 हजार लोगों में प्रसादी वितरण का लक्ष्य रखा गया है। पत्र परिषद् के पूर्व विजयश्री स्पोर्ट्स क्लब के संस्थापक रमेशचंद्र डॉन सेनापति के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। इसके पश्चात कोरोना काल के दो वर्षों में धार में दिवंगत हुए आम लोगों और विजयश्री स्पोर्ट्स क्लब के दिवंगत सदस्यों को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
धार में आयोजित होगा देश का प्रतिष्ठित साहित्योत्सव नर्मदा साहित्य मंथन का द्वितीय सौपान भोजपर्व!
चित्र
स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अवसर पर समर्थ पार्क में निवासरत पूर्व सैनिकों का किया गया सम्मान
चित्र
त्योहारों के मद्देनजर एसडीएम का चंद्रशेखर आजाद नगर में हुआ दौरा, झोलाछाप डॉक्टरों पर गिरी गाज
चित्र
Workshop under STRIDE project for e- development of BRAUSS campus held
चित्र
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का क्रियान्वयन संभावना और चुनौती पर अंबेडकर विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय संगोष्ठी में राष्ट्रीय संगोष्ठी में राष्ट्रीय संगोष्ठी
चित्र