मामला 250 करोड़ के जमीन घोटाले का......., पुलिस की याचिका पर जमानत प्राप्त आरोपितों को सुप्रिम कोर्ट से नोटिस जारी

 आशीष यादव, धार 

1 महीने के अंदर दोनों पक्षों को सुनेगी कोर्ट, पुलिस से सहमत हुई तो निरस्त हो सकती है जमानत

250 करोड़ (वर्तमान अनुमानित कीमत) की जमीन अफरा-तफरी मामले में फिर से गहमा-गहमी शुरु हो गई है। दरअसल इस मामले में उच्च न्यायालय से जमानत पर छूटे आरोपितों को सुप्रिम कोर्ट से नोटिस जारी हुए है। आरोपितों को जमानत मिलने के बाद पुलिस विभाग ने सुप्रिम कोर्ट में इसको लेकर स्पेशल लीव पिटिशन लगाई थी। अभियोजन पक्ष को सुनने के बाद सुप्रिम कोर्ट ने आरोपित पक्ष के लोगों को नोटिस जारी किए है। इनमें आरोपित अधिवक्ता विवेक तिवारी, श्रीमती शालिनी सुधीर दास सहित अन्य को नोटिस जारी होंगे। इस मामले में यदि दोनों पक्ष को सुनने के बाद सुप्रिम कोर्ट पुलिस पक्ष की और से रखे गए तर्कों से सहमत होती है तो संभवत: इनकी जमानत भी निरस्त हो सकती है। अभियोजन पक्ष ने जमानत को लेकर बनाए गए आधार को चुनौती दी थी। सूत्रों की माने तो इस मामले में जमीन दान की होने की जानकारी ना होने जैसी दलीले कोर्ट में देकर जमानत करवाई गई थी।

कोर्ट में कुर्की पर भी होना है सुनवाई

जमीन अफरा-तफरी मामले में धार कोतवाली पुलिस ने 28 नवंबर 2021 को प्रकरण दर्ज किया था। इसके बाद से अभी तक 30 के लगभग लोगों को आरोपित किया जा चुका है। 4 मुख्य आरोपितों में शामिल 1 आरोपी सुधीर शांतिलाल पर पुलिस ने इनाम घोषित कर रखा है। वहीं उनकी पत्नी श्रीमती जैन भी फरार घोषित की गई है। इनकी संपत्ति कुर्की की कार्रवाई के लिए धारा 83 के तहत कोतवाली पुलिस ने कोर्ट में आवेदन भी लगा रखा है। अब तक इस मामले में पुलिस द्वारा आरोपित अधिकांश आरोपी जमानत ले चुके है।

दास दूसरे मामले में जेल में बंद

जमीन घोटाले का मास्टर मार्इंड सुधीर पिता रत्नाकर दास उर्फ बनी दास फिलहाल दान की ही 50 करोड़ की दूसरी जमीन की अफरा-तफरी मामले में जेल में बंद है। दास को 250 करोड़ की जमीन घोटाले मामले में तिवारी एवं अन्य आरोपितों के बाद जमानत मिली थी। इधर पुलिस ने श्री तिवारी एवं अन्य को जमानत मिलने के बाद सुप्रिम कोर्ट में एसएलपी दायर की थी। इसके कारण दास को मिली जमानत फिलहाल सुप्रिम कोर्ट के नोटिस दायरे में शामिल नहीं है।

अब तक का सबसे बड़ा चालान

इस जमीन घोटाले की जांच के लिए पुलिस ने काफी मशक्कत की है। डीएसपी यशस्वी शिंदे सहित सीएसपी देवेन्द्र धुर्वे, कोतवाली थाना प्रभारी समीर पाटीदार सहित पुलिस की पूरी टीम जुटी थी। इस मामले में अब तक का सबसे बड़ा चालान बनाया जा रहा है। करीब 3 हजार पृष्ठों के लगभग चालान रहेगा। पुलिस ने तत्परता से कार्रवाई करते हुए इसमें लोगों की गिरफ्तारी के साथ केस को पुख्ता करने के लिए साक्ष्य एकत्रित किए है। 



टिप्पणियाँ
Popular posts
स्टेयरिंग फेल होने से घर में घुसी पिकअप, ड्राइवर की मौके पर ही मौत तीन घायल, - घटना के बाद ग्रामीणों ने स्टेट हाईवे पर लगाया जाम, वाहनों की लंबी कतार
चित्र
कोठीदा का मिट्टी वाला बांध हुआ लिकेज, एक दर्जन से अधीक ग्राम के लोग घबराए
चित्र
तबाही का मंझर आंखों के सामने~~~ 2 दिन से चल रहा डेम में लीकेज सही करने का काम, बाँध को खाली करने की जा खुदाई में आ रही दिक्‍कत दोनों ओर बनाई जा रही चेनल
चित्र
दोषियों पर कारवाई क्यो नही:, वीडियो से मिली डेम की लगी जानकारी जिम्मेदार अधिकारी को पानी रिसने की नही थी जानकारी, जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने उद्योग मंत्री दत्तीगांव के साथ किया मुआयना
चित्र
बाग में पटवारी की मिलीभगत से दूसरे जमीन घोटाले में भी केस दर्ज
चित्र