महाभंडारा / न कोई प्रायोजक, न व्यवस्थापक; 60 गांवाें के युवाओं ने आपस में बांटी जिम्मेदारी, देशभर से आए लाखों श्रद्धालुओंं ने पाया प्रसाद

न कोई प्रायोजक, न व्यवस्थापक; 60 गांवाें के युवाओं ने आपस में बांटी जिम्मेदारी, देशभर से आए लाखों श्रद्धालुओंं ने पाया प्रसाद


मुरैना. तीन संतों की तपस्थली करह आश्रम में संत रतनदास महाराज की 62वीं बरसी पर रविवार को महाभंडारा आयोजित किया गया। इसमें मप्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़, हरियाणा, दिल्ली तक के लाखों श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। इसके साथ ही 9 फरवरी से शुरू हुए सिय-पिय मिलन समारोह का समापन भी हुआ।
खास बात यह कि इस महाभंडारे में न कोई प्रायोजक होता है, न कोई व्यवस्थापक। आसपास के ग्रामीण स्वेच्छा से सभी काम करते हैं। इस बार भी नूराबाद, बानमोर, मुरैना क्षेत्र के 60 गांवों के हजारों युवाओं ने व्यवस्था संभाली। गौरतलब है कि देशभर के लाखों श्रद्धालु यहां रतनदास महाराज व रामदास महाराज के पवित्र स्थल के दर्शन करने आते हैं।


टिप्पणियाँ
Popular posts
दिगठान में कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया
चित्र
आधुनिक दौर के पँचायत चुनाव~ समय के साथ बदलते दौर में बदलते चुनाव तरीके से प्रचार कर रहे गांवों में सरपंच प्रत्याशी~ ग्रामीण इलाकों में बदला प्रचार करने का तरीका हर रोज आ रहे नए नुस्खे
चित्र
डॉक्टर डे पर की लोकायुक्त ने महिला डॉक्टर के साथ बनाया नर्स को भी आरोपी बनाया आरोपी, डिलीवरी कराने के नाम पर मांगे थे 8 हजार रुपये
चित्र
जलदेवता को मनाने नगर में निकाली जिंदा मुर्दे की शव यात्रा
चित्र
धार में दूसरे चरण का मतदान हुए सम्पन्न , 12 सो हजार पुलिसकर्मी केंद्रों पर तैनात, मतदान केंद्र पर लंबी कतार~~ शांतिपूर्ण हुए मतदान 77 प्रतिशत मतदान 3 लाख 32 हजार से अधिक मतदाता ने डाले वोट
चित्र